Teachers Day Speech in Hindi | शिक्षक दिवस पर भाषण

Teachers Day Speech in Hindi | शिक्षक दिवस पर भाषण


साथियों नमस्कार, आज हम आपके लिए “Teachers Day Speech in Hindi | शिक्षक दिवस पर भाषण” लेकर आएं हैं! हमारा मानना है की हर व्यक्तिके जीवन में कभी न कभी यह मोका ज़रूर आता है जब वह अपने स्कूल, कॉलेज में टीचर्स डे के मौके पर Anchoring करता है! पढ़िए हमारा खास आर्टिकल…

वक़्त, बस दुनियां में एक यही चीज है जो इन्सान खरीद नहीं सकता| सबके पास एक सा वक़्त होता है, 24 घंटे! इन 24 घंटों में इन्सान अपनी ज़िन्दगी को जीना भी चाहता है, अपने सपनों को पूरा भी करना चाहता है और कुछ वक़्त अपनों के साथ बाँटना भी चाहता है|

आप सब सोच रहें होंगे की आज “शिक्षक दिवस ( टीचर्स डे | Teachers Day Speech in Hindi )” के इस खास अवसर पर में यह वक़्त की बात क्यों कर रहा हूँ| लेकिन आपका सोचना भी बिलकुल सही है, आखिर आजकल दूसरों के बारे में सोचने का वक़्त किसके पास है|

लेकिन संसार में  ऐसे भी बिरले लोग हैं जो अपनी ज़िन्दगी का एक बहुत बड़ा वक़्त दूसरों के बारे में सोचने और दूसरों का जीवन सँवारने में लगा देते हैं| जी हाँ, अब तक तो आप समझ ही गए होंगे की में किसकी बात कर रहा हूँ|

हमारे शिक्षक, गुरुजन, टीचर्स या फिर यूँ कहें हमारे मार्गदर्शक जो ज़िन्दगी में एक ही सपना देखते हैं की, उनके पढ़ाए हुए बच्चे ज़िन्दगी में बहुत बड़ा मुकाम हांसिल करे| एक बार फिर आप सभी को “शिक्षक दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाए!


                  शिक्षक दिवस पर भाषण | Teachers Day Speech in Hindi

५ सितम्बर, शिक्षक दिवस जिसे भारत के पहले उप राष्ट्रपति और दुसरे राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन  के जन्म दिवस के रूप में  मनाया जाता है| कुछ सालों पहले इस दिन भारत में सार्वजनिक अवकाश हुआ करता था, लैकिन  कुछ सालों में भारत सरकार ने इस दिन को हर स्कूल और शेक्षणिक संस्थान में मनाना अनिवार्य कर दिया है|

वैसे तो हर देश में अपना टीचर्स डे मनाया जाता है, लेकिन भारत में इस दिन को बड़े ही शानदार तरीके से मनाया जाता है| शायद इसलिए क्यों की हमारी भारतीय संस्कृति में गुरुजनों और हमारे शिक्षकों को बड़े ही सम्मान की दृष्ठि से देखा जाता है| राजा-महाराजाओं के समय से गुरुजनों का एक विशिष्ठ महत्त्व हमें हिन्दू पौराणिक कथाओं में देखने को मिलता है|

वह चाहे आरुणी की गुरुभक्ति हो जो गुरु की आज्ञा का पालन करते हुए बारिश के पानी को खेत में घुसने से रोकने के लिए खुद खेत की मेड बनकर सो गया हो या फिर महान धनुर्धर एकलव्य की हो जिसने द्रोणाचार्य को गुरु मानकर विद्या ग्रहण की और गुरु की आज्ञा  मानकर अपना अंगूठा काटकर गुरु को गुरु दक्षिणा में दे दिया हो|

ऐसे कई उदारहण और कहानियां आज भी हमारी भारतीय संस्कृति में विद्यमान है जो हमें गुरु-शिष्य के अटूट प्रेम और सम्मान का पाठ पढ़ाती है| लेकिन आज समय में काफी परिवर्तन आ गया है| आज हमारे गुरुजनों को हमसे गुरुदाक्षिणा में सिर्फ एक ही चीज चाहिए और वो है सम्मान| आज की मार्डन और भागदौड़ भरी जीवनशेली में सब कुछ तीव्र हो गया है|

हम कब हमारी पढाई पूरी कर हमारी ज़िन्दगी में आगे बढ़ जाते हैं हमें पता ही नहीं चलता लेकिन एक इन्सान हमेशा वहीँ रहता है, हमारा जीवन सँवारने के बाद वह फिर किसी और का जीवन सँवारने में जुट जाता है| मन में हमेशा एक हि ख्वाब लेकर चलता है की उनके पढाए हुए बच्चे ज़िन्दगी में एक बड़ा मुकाम हांसिल करे|

इन सब के बिच कई बार एक वक़्त ऐसा भी आता है जब हमारी मुलाकात अनजाने में ज़िन्दगी के किसी ना किसी मोड़ पर उस इन्सान से हो जाती है जिसकी बदोलत हम आज अपनी ज़िन्दगी में अपने सपनों को पूरा कर पाए हैं| जब हमारे गुरुजन हमें उस मुकाम पर देखते हैं तो कई बार आँखों से ख़ुशी के आंसू निकल आते हैं|

लेकिन कई बार हम हमारे गुरुजनों को देखकर उन्हें उचित सम्मान नहीं दे पाते| ये ठीक अपने माता-पिता को बिच मझधार में अकेला छोड़ने जैसा है| ज़रा सोचिये, हमारी ज़िन्दगी सँवारने वाला हमसे चाहता भी क्या है बस एक मुस्कान और सम्मान के दो बोल! और कई बार हम वो भी उन्हें नहीं दे पाते|

इसलिए मेरी मेरे सभी सहपाठियों से दिल से गुजारिश है…ज़िन्दगी के किसी भी मोड़ पर आपको वो इन्सान मिले जिसने आपकी ज़िन्दगी बनाए में अपनी ज़िन्दगी खपाई हो तो मुस्कुराकर उनसे दो मीठे बोल ज़रूर बोले…असल में उनके लिए सच्ची गुरुदाक्षिणा भी यही है|

अंत में बस उनके सम्मान में यही कहना चाहूँगा/चाहूंगी कि,

माता-पिता की मूरत है गुरु
इस कलयुग में भगवान की सूरत है गुरु…
नहीं है कोई गुरु सा महान,
हर इन्सान की ज़रूरत है गुरु!!

Read – Anchoring Script for Annual Function in Hindi

शिक्षक दिवस की कुछ खास बातें | Teachers Day Speech in Hindi

  • भारत में शिक्षक दिवस 5 सितम्बर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस की रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता है| इस दिन स्कूल और शेक्षणिक संस्थानों में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं|
  • वर्ल्ड टीचर्स डे 5 अक्टूबर को मनाया जाता है, इस दिन दुनियां के 21 देश अपना टीचर्स डे मानते हैं| इसके अलावा दुनियां के 11 बड़े देश 28 फ़रवरी को टीचर्स डे के रूप में मानते हैं|
  • डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के राष्ट्रपति बनने के बाद 5 सितम्बर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस पर डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने विधार्थियों के अनुग्रह पर इस दिन को शेक्षिक पेशे के रूप में समर्पित किया|

अपने भाषण की शुरुआत केसे करें | शिक्षक दिवस पर भाषण | Teachers Day Speech in Hindi

शिक्षक दिवस का भारतीय संस्कृति में एक बहुत बड़ा महत्त्व है, इसलिए जहाँ तक मुमकिन हो इस दिन भारतीय वेश भूषा पहने| अपने भाषण को पूरा रटने की बजाए भाषण के कुछ खास पहलुओं को  याद रखें और भाषण के वक़्त इन पहलुओं को अपने शब्दों में कहने की कोशिश करें|

मंच पर जाने से पहले हल्का पानी पाई और धीरे-धीरे मंच पर जाएँ| कई बार दौड़कर मंच पर चढ़ने से आप हडबडाहट में भाषण के सुरुआती पहलु को भूल जाते हैं| भाषण के शुरूआती पहलु को अच्छे से याद कर लें, एक बार सही शुरुआत हो जाने पर आप आत्मविश्वास से भर जाएँगे| अपने भाषण की शुरुआत कुछ इस तरह करें….

आदरणीय गुरुजनों और मेरे सभी मित्रों को सर्वप्रथम शिक्षक दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाए| आज हम सभी यहाँ एक खास दिन के उत्सव पर एकत्रित हुए हैं और इस खास दिन पर मुझे आप सभी के समक्ष अपनी बात रखने का मोका मिल रहा है, इसके लिए में आपका आभारी हूँ… किसी शायर की खास पंक्तियों से आज के इस खास दिन की शुरुआत करना चाहूँगा.. कि

गुमनामी के अँधेरे में था, पहचान बना दिया…
दुनियां के गम से मुझे अंजन बना दिया,
ऐसी कृपा हुई मेरे गुरुदेव की,
की मुझे एक इन्सान बना दिया||

अपने भाषण में किसी भी एक “शिक्षक” के बारे में ना बताएं! इससे दुसरे शिक्षक आपसे नाराज हो सकते हैं! हाँ, आपको पढ़ने वाले शिक्षकों के बारे में आप एक-एक अच्छी बात नोट करके ज़रूर बता सकते हैं!

शिक्षकों के साथ-साथ आप अपने स्कूल, कॉलेज के बारे में भी कुछ अच्छी-अच्छी बाते बता सकते हैं! इससे इस खास मौके पर आपका स्कूल के प्रति समर्पण भी नज़र आएगा और आप किसी एक शिक्षक की तारीफ करने से भी बचेंगे!

अपने भाषण के दौरान आप किसी Short Moral Story को भी अपने भाषण में शामिल कर सकते हैं! इस तरह का समावेश करने से आपका भाषण बोरिंग महीन होगा और श्रोता आपके भाषण को बढ़ी ही तन्मयता के साथ सुनेंगे !


दोस्तों इस Anchoring Script को हमने खास तौर पर आप सभी के लिए Anchor Mohit की Ebook “Become A Emcee” से लिया है| वैसे तो हमें उम्मीद है की इस Anchoring Script से आप अपने Event को यादगार बना देंगे लेकिन अगर आप वाकई में एक अच्छे Anchor बनना चाहते हैं तो एक बार इस Ebook को ज़रूर पढ़िए|

“Become A Emcee” Ebook के बारे में कुछ खास जानकारियां:-
  • इस Ebook में Anchoring के सारे पहलु दीए गए हैं| जैसे की आपको कैसे बात करना है, किस तरह से Audiance के साथ Gather करना है|
  • Ebook में Stage पर बोलने के लिए कई शायरियां दी गई हैं जिन्हे आप समय-समय पर उपयोग कर दर्शकों का दयां अपनी और आकर्षित कर सकते हैं|
  • हर Performance को Stage पर Invite करने के लिए अलग-अलग लाइन दी गई है|
  • Audience Chear-up के लिए कई सारी lines दी गई है|
  • Event में Fillers के लिए कई तरह की Games Performance के बारे में जानकारी  दी गई है|
  • Audiaence Engagemet के लिए कई सारे Quick Question दीए गई हैं जिन्हें पुछकर आप सभी का ध्यान अपनी और आकर्षित कर सकते हैं|

Ebook Download करने के लिए निचे दी गई लिंक पर क्लिक करें

Anchor Mohit eBook

Click Here


यह भी पढ़ें:-

मंच सञ्चालन के लिए शायरियाँ | Shayari for Anchoring in Hindi

Anchoring Script in Hindi for Mahila Sangeet | महिला संगीत की शायरी

स्वतंत्रता दिवस भाषण हिंदी में | Independence Day Speech in Hindi

मंच सञ्चालन के लिए शायरियाँ | Shayari for Anchoring in Hindi

Welcome Speech for School Function in Hindi

Anchoring Script for Annual Function in Hindi

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए “यहाँ क्लिक करें!

2 thoughts on “Teachers Day Speech in Hindi | शिक्षक दिवस पर भाषण”

Leave a Reply

%d bloggers like this: