Poem on Womens
Hindi Poem

Poem on Womens | महिलाओं के लिए कविता

साथियों नमस्कार, आज हम आपके लिए “Poem on Womens | महिलाओं के लिए कविता” लेकर आएं हैं जिन्हें पढ़कर आपको महिलाओं और महिलाओं के अधिकारों की रक्षा के लिए एक प्रोत्साहन मिलेगा| आप इन कविताओं को किसी भी सभा या उत्सव में पढ़कर सुना सकते हैं|


Poem on Womens | महिलाओं के लिए कविता

मेरी उम्र पूछने वाले,
मेरी तकदीर का लिखा कैसे जान जाते हो…
अठारह कहूँ तो  संभलकर रहना बहक जाऊँगी,
यह कैसे कह जाते हो!!
और इककतीस कहूँ तो शादी नहीं होगी,
इसका इतना दुख तुम कयो मनाते हो…
मेरी उम्र पूछने वाले,
मेरी तकदीर का लिखा कैसे जान जाते हो!!
अरे मेरी उम्र पर नजर रखने वाले पहले अपनी तो जी ले,
महज कुछ पलों के राही थोड़ी सी तो सीख ले ले…
तुझे एहसास भी है इस उम्र के खेल में मैंने कितना कुछ हारा है,
मेरी उम्र पूछने वाले मेरी तकदीर लिखा कैसे जान जाते हो ॥

खुद के लिए जीना चाहती हूँ  | Poem on Women’s Empowerment

शौर-शराबे और इस हलचल से दूर,
शांत जीवन जीना चाहती हूँ…
जीती रही अब तक सबके लिए,
कुछ पल अब खुद के लिए जीना चाहती हूँ!!

उन्मुक्त सरिता की तरह मेरा मन,
सिमटता रहा जीवन-कूप के भीतर,
फैला था चरों और मरुस्थल,
धरा टेल फिर भी बहता रहा निर्झर!!

संघर्ष करते करते,
शायद अब मायने ही खो गए…
समंदर में उतारते,
लहरों के भंवर में खो गए!!

वसुंधरा सी सहनशीलता,
है मुझमें सागर सी गहराई,
संसार चक्र की धुरी बनी,
ममता ने जो ली अंगडाई!!

हूँ आदि, मध्य और अंत भी में ही,
जीवन का मूल और सृष्टिकर्ता भी में ही!!


स्त्री शक्ति | Poem about Women’s Strength

कभी किसी स्त्री को कम मत समझना,
ब्रह्मा विष्णु शिव जिसके सामने शीश झुकाए,
वह जगदंबा कहलाए!!

हर स्त्री में जगदंबा का वास है,
हर स्त्री में कुछ ना कुछ खास है…
तीनो लोक जिस के गुण गाए,
वह जगदंबा कहलाए!!

जिसके होने से यह जीवन चक्र चलता जाए,
वह एक माँ कहलाए…
जो हर वक्त पुरुष को उसकी रक्षा का एहसास दिलाए,
वह बहन कहलाए !!


वो फिर उठ खड़ी होगी | Hindi Poems on Nari Shakti

वो फिर उठ खड़ी होगी,  तुम्हें राख कर देगी…
वो जवाला है तबाह बेहीसाब कर देगी!!
करके जो उसका अस्तित्व समाप्त, तुम खुश हुए बैठे हो…
अपने को ज्यादा और उसे कम समझे बैठे हो!!
वो फिर उठ खड़ी होगी, शमशीर बना लेगी…
तोड़ कर सारी जंजीरे, अब वो अपनी तकदीर बना लेगी!!
घर हो चाहे कचहरी, हो चाहे कोई भी व्यवसाय…
सूझबूझ से देगी वो अपनी राय!!
रोंद के यह जंगल वो फिर वा़पस आएगी,
पोछ के वो आँसू फिर तुमहे ललकारे गी!!
वो फिर उठ खड़ी होगी, तुम्हें राख कर देगी,
वो जवाला है तबाह बेहीसाब कर देगी!!


रुकती नहीं हूँ | महिला शशक्तिकरण के लिए कविता

गिरती हूँ उठती हूँ
चहकती हूँ बहकती हूँ
सहमती हूँ मुस्कराती हूँ
गूँजती हूँ गाती हूँ
बस……….
रुकती नहीं हूँ
मेरी नींव कुछ य़ूं मजबूत हो चली हैं
कि मैंने ठहरना नहीं दौड़ना सीख लिया है
बिना पंखों के उड़ान भरना सीख लिया है
मैंने सहेली के साथ साथ पहेली बनना सीख लिया है
मैंने अपना रास्ता खुद तय करना सीख लिया है
मेरी नींव इतनी मजबूत हो चुकी हैं
की मैंने अहसान लेना छोड़ दिया है
Ritika Pathak 

साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस [email protected] पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “PPoem on Womens | महिलाओं के लिए कविता” हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!Hindi Short Storiesयह भी पढ़ें

Poem on Mother in Hindi | माँ पर कविता

भूख-Hindi Kavita

Hindi Short Stories
Hi, My Self Mohit Rathore. I am an Professional Anchor(2012) & Blogger (2017). I have three years experience in the field of writing. I am also writing a novel along with Blagging, whose publication information will be published on the website soon!Thank you for being here.... Mohit Rathore
http://hindishortstories.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *