शूरवीरों का धरती चित्तोडगढ | Chittorgarh

Chittorgarh fort

शूरवीरों का धरती चित्तोडगढ | Chittorgarh Fort


राजपूत राज्य राजस्थान का एक छोटा सा मगर बेहद खुबसूरत शहर चित्तौडगढ (Chittorgarh fort) और अपने आप को शूरवीरों की तरह सीना ताने खड़ा रखे चित्तोडगढ का किला! देखने पर ऐसा लगता है, मानो आज भी लाखों राजपूत सेनिकों के बलिदानों की कहानी बयां कर रहा हो….

यूँ तो राजस्थान की धरती पर जन्म लेना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात है! लेकिन अगर आपने अभी तक राजस्थान की इस पावन धरती के दर्शन नहीं किये हैं तो हम आपको आज बताएँगे की आपको सबसे पहले जाना कहाँ है| वैसे तो पूरा राजस्थान घुमने के लिहाज से भारत में सबसे शानदार जगह है| लेकिन अगर आपको हेरिटेज (Heritage) जगहों और किलों को देखने का शोक है तो आप सबसे पहले रुख कर सकते हैं चित्तौडगढ (Chittorgarh fort) का!

चित्तौडगढ पहुँचने के लिए आप सड़क, रेलवे और हवाई मार्ग का सहारा ले सकते हैं| अगर आप सड़क मार्ग से चित्तौडगढ पहुंचना चाहते हैं तो आप National Highway 8 (NH 8) से सीधा चित्तौडगढ पहुँच सकते हैं| रेलवे मार्ग से भी चित्तौडगढ़ तक पहुंचना काफी आसान है, रेलवे के चित्तौडगढ जक्शन होने के कारण यहाँ पर पहुँचने के लिए आपको आसानी से ट्रेन मिल सकती है| इसके अलावा हवाई मार्ग से चित्तौडगढ पहुँचने के लिए आपको उदयपुर हवाई अड्डे पर उतरना होगा|

रात बिताने के लिए चित्तौडगढ में कई होटल, लॉज और धर्मशालाएं उपलब्ध है| आप अपने बजट के अनुसार रात बिताने के लिए रूम बुक कर सकते हैं|

अगर आप अब तक चित्तौडगढ (Chittorgarh fort) आने का प्लान बना चुके हैं, तो हमारी बात मानिये और चित्तौडगढ का रुख सुबह की पहली किरण के साथ करे| चित्तौडगढ किले से सूर्योदय और सूर्यास्त (Sunset at Chittorgarh fort) के नज़ारे को आप हमेशा के लिए अपनी यादों के झरोखों में समेट कर ले जा सकते हैं|

चलिए अब जानते है चित्तौडगढ के इस भव्य किले की भव्यता के बारे में….चित्तौडगढ का किला कुल 709 एकड़ में बसा हुआ है| जिस पहाड़ी पर यह किला बसा हुआ है, उस पहाड़ी का घेरा लगभग 8 मील का है| इस पहाड़ी की उचाई लगभग 180 मीटर है| सुरक्षा के लिहाज से चित्तौडगढ सबसे मजबूत किला माना जाता है| किले में पहुँचने के लिए सात दरवाजो से होकर गुजरना पड़ता है|

केवल एक रात में किया गया था चित्तौडगढ़ (Chittorgarh fort) किले का निर्माण

Chittorgarh fort

इस किले के बारे में कई कहानियां है| लेकिन कहा जाता है की इस विशाल किले का निर्माण केवल एक रात में किया गया था| जी हाँ, द्वापर युग में पांच पांडवों में से सबसे बलशाली भीम जब संपत्ति की खोज में थे तब उन्हें इस पहाड़ी पर पारस पत्थर होने की सुचना मिली| भीम जब पारस पत्थर की खोज में इस पहाड़ी पर पहुंचे तब उन्हें रास्ते में एक योगी निर्भयानाथ और एक यति कुकडेश्वर मिले| भीम को जब यह पता चला की योगी निर्भयानाथ के पास पारस पत्थर है तो उन्होंने योगी से पारस पत्थर की मांग की| भीम के बलशाली शरीर को देख योगी ने उन्हें पारस पत्थर देने के लिए एक शर्त के साथ हाँ कर दी लेकिन शर्त यह थी की अगर भीम एक रात में इस पहाड़ी पर एक योगी के रहने के लिए इस पहाड़ी पर एक सुन्दर महल का निर्माण कर दे तो उन्हें पारस पत्थर मिल सकता है|

भीम को योगी की शर्त को पूरा करना लगभग असंभव लगा लेकिन पारस पत्थर को पाने की लालसा में उन्होंने योगी की शर्त को मान लिया सुर महल बनाने के काम में जुट गए| कहा जाता है की भीम में सौ हाथियों के बराबर शक्ति थी| इस असंभव काम को भीम ने एक रात में ही लगभग पूरा कर लिया था| लेकिन योगी निर्भायानाथ ने जब भीम को महल का काम पूरा करते देखा तो उनके मन में भीम को पारस पत्थर ना देने का विचार आया| इसलिए योगी ने भीम के काम को रोकने की एक योजना बनाइ|

महल को बनाने का काम लगभग पूरा हो चूका था सिर्फ पश्चिम क्षेत्र में थोडा सा निर्माण बाकि था| तभी  योगी निर्भयानाथ ने यति कुकड़ेश्वर से मुर्गे की बाग़ में आवाज लगाने को कहा| उस ज़माने में मुर्गे की बैग को ही सवेरा होने का प्रमाण मन जाता था| भीम ने जब मुर्गे की बाग़ सुनी तो अपने कार्य को विफल होते देख क्रोध में आकर अपने पैर को जोर से पटका| कहा जाता है की भीम के जोर से पैर पटकने के कारण वहां एक गड्ढा बन गया जिसे आज भी भीम कुंड के रूप में जाना जाता है|

चित्तौडगढ किले में घुमने वाली जगहें  (Place to VIsit in Chittorgarh Fort)

रानी पद्मिनी का महल :- 

Padmini Palace Chittorgarh Rajasthan
Padmini Palace Chittorgarh Fort Rajasthan

चित्तौडगढ के किले में ही एक तालाब के बिच में एक महल बना हुआ है जिसे पद्मिनी महल के नाम से ही जाना जाता है| पद्मिनी महल को जनाना महल भी कहा जाता है और तालाब के किनारे बने महल को मर्दाना महल के नाम से जाना जाता है| मर्दाना महल में ही ऊपर एक कमरे में सामने की ओर एक दर्पण लगा हुआ है| दर्पण के सामने कि ओर खड़े होकर देखने पर मरदाना महल में खड़े व्यक्ति को देखा जा सकता है, लेकिन अगर पलट कर देखना चाहें तो देखना मुश्किल है| कहा जा सकता है की अलाउद्दीन खिलजी ने यहीं खड़े होकर रानी पद्मिनी का प्रतिबिम्ब देखा था|

कालिका माता मंदिर :- 

kalika-mata mandir chittorgarh fort
kalika-mata mandir chittorgarh fort

माँ पद्मिनीं महल के निकट ही एक विकाश मंदिर है, जिसे कालिका माता मंदिर के नाम से भी जाना जाता है| कहा जाता है की इस मंदिर का निर्माण 9 वि शब्ताब्दी में मवाद के राजाओं ने करवाया था| इस मंदिर के बारे में यह भी किदवंती है, कि पहले यह मंदिर सूर्य मंदिर था| मंदिर के गर्भ गृह में बनी सूर्य की मूर्तियाँ इसका प्रमाण है| कहा जाता है कि मुगलों के आक्रमण के दौरान मुग़ल राजाओं ने इन मूर्तियों को नष्ट कर दिया जहाँ बाद में माँ कालिका की मूर्ति की स्थापना की गई| तभी से यह मंदिर कालिका माता मंदिर के रूप में जाना जाता है|

कीर्ति स्तम्भ, विजय स्तंभ :-

Vijaya Stambha Chittorgarh Fort
Vijaya Stambha Chittorgarh Fort

कीर्ति स्तम्भ, जिसे विजय स्तम्भ भी कहा जाता है… का निर्माण सन 1440 इस्वी में महाराणा कुम्भा ने मालवा के सुल्तान महमूद शाह खिलजी को परास्त करने की यादगार के रूप में किया था| वास्तुकला की द्रष्ठी से विजय स्तम्भ एक बेजोड़ उदारहण है|

जोहर स्थल  :- किले के बिच में चारों और से घिरा हुआ एक मैदानी हिस्सा है, जिसके जोहर स्थल होने का दावा किया जाता है| यहाँ पहुँचने के लिए दो मुख्य द्वार बने है, जिन्हें सती द्वार के नाम से भी जाना जाता है|

गोमुख कुंड :- कालिका मंदिर से आगे चलने पर जोहर स्थल के पास ही एक कुंड है जिसे गोमुख कुंद के नाम से जाना जाता है| यहाँ पर एक पत्थर की गोमुख के सामान मूर्ति है जिससे प्राकृतिक झरने की एक धारा लगातार पास ही बने शिवलिंग पर गिरती रहती है|

मीराबाई का मंदिर :- कृष्ण भक्त मीराबाई का मंदिर चित्तौरगढ़ किले की शान कहा जाता है| यहाँ पर कृष्ण भक्त मीराबाई की एक मूर्ति स्थापित की गई है| मंदिर के सामने ही एक छत्री बनी हुई है, जहाँ मीराबाई की गुरु स्वामी रैदास जी के चरण चिन्ह है|

इन जगहों के अलावा भी चित्तौरगढ़ दुर्ग में घुमने के लिए छोटी-छोटी कई जगहें मौजूद है| चित्तौडगढ किला पूरा घुमने के लिए आपको पुरे एक दिन का समय लग सकता है|

चित्तौरगढ़ के आसपास घुमने वाली जगहें (Place to Visit Near Chittorgarh Fort)

वैसे तो चित्तौडगढ अपने आप में घुमने फिरने के लिए खास जगह है लकिन अगर आप चित्तौडगढ के आसपास घुमने का मन बना रहें है तो चित्तौडगढ के पास सवालिया जी, आवरीमाता, सुखानंद जी, भादवामाता घूमेने के लिए शानदार जगहें हैं|


आपको हमारी कहानी Sone Ke Kangan Moral Story in Hindi कैसी लगी हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

टेक्नोलॉजी से सम्बंधित आर्टिकल पढने के लिए www.Pratibodh.com पर क्लिक करें !
Hindi Short Stories डॉट कॉम
यह भी पढ़ें:-
सोने के कंगन | Sone Ke Kangan Moral Story in Hindi
बच्चों की तिन कहानियां | Kids Story in Hindi
संग का फल | Sang ka Fall Moral Stories in Hindi

2 Comments on “शूरवीरों का धरती चित्तोडगढ | Chittorgarh”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *