Hindi Shayari | किसी और से

Hindi Shayari

Hindi Shayari | किसी और से

साथियों नमस्कार, Hindi Shayari का हम सभी के जीवन में एक खासा महत्त्व है| हम चाहे किसी ख़ुशी में हो या किसी गम में, चाहे हमें दुनियां से ढेर सारी मुहोब्बत मिली हो या फिर हम किसी गम के मारे हो… ज़िन्दगी के हर एक पल में “शायरी” का अपना एक महत्त्व है! आज हम आप सभी के लिए कुछ ऐसी ही चुनिन्दा शायरी लेकर आएं हैं…


Hindi Shayari | किसी और से

क्यों कहू तुझसे की ना करूँगा मुहोब्बत अब किसी और से ,
कहने को वेसे भी अब क्या रहा,जो बात करूँगा किसी और से
वक्त दर वक्त, लम्हा दर लम्हा गुज़रे जो ज़िन्दगी…
तेरी तरह, तेरे जैसे कोई लगा ले मुझे गले, क्या खुद जा के कह सकूँगा किसी और से ?

जा कह भी दू वैसा, जैसा तू करती थी मेरे लिए…

पर जो प्यार भरी बाते मेरे लब पे थी तेरे लिये, क्या वो जा के कह सकूँगा किसी और से ?

ना कर उम्मीद मेरे रोने और हसने की तेरे जाने के बाद,
तेरी बेवफाई की बाते क्या अब कर सकूँगा किसी और से ?

में जानता हु तू अब भी प्यार करती हे मुझसे …

मेरे दिल की बाते क्या तेरे सिवा कह सकूँगा किसी और से ?

इंतजार हे उस वक्त का जब तू लौट आएगी…
तू लौट आएगी मेरी ज़िन्दगी मे फिर से क्या ये जा के कह सकूँगा किसी और से ?

copyright©hindishortstories.com

पढ़े–Hindi Shayari -भूख


जिंदगी के रथ में लगाम बहुत है,
अपनों के अपनों पर इलज़ाम बहुत है…
ये शिकायतों का दौर देखता हूँ तो थम सा जाता हूँ,
लगता है उम्र कम है और इम्तिहान बहुत है!!


किसी की चंद गलती पर न कीजिये कोई फैसला,
बेशक कमियां होगी पर खूबियां भी तो होगी!!


ना डरा मुझे ऐ वक़्त,
नाकाम होगी तेरी हर कोशिशे…
ज़िन्दगी के मैदान में खड़ा हूँ,
दुआओं का काफिला लेकर!!


ज़मीं पर रह कर आसमां को छूने की फितरत है मेरी,
पर किसी को गिरा कर, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे!!


दाम बहुत ऊँचे है खुशियों के,
दुनिया के वीराने में….
मुफ्त मिल जाता है तुमसे मिलकर सुकून,
मेरे खुशियों के पैमाने से!!


वो पत्ता आवारा न बनता तो क्या करता,
न हवाओ ने बख्शा, न शाखों ने पनाह दी!!


हम उनसे तो लड़ लेंगे,
जो खुले आम दुश्मनी करते हैं…
लेकिन उनका क्या करे,
जो लोग मुस्कुरा के दर्द देते हैं!!


खुद को खो दिया हमने अपनो को पाते पाते,
और लोग पूछते है कोई तकलीफ तो नही!!


आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,
लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं…
कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछियों को,
याद वही आते है जो उड़ जाते है!!


सामने वाला गुस्से में है तो आप चुप रहिए,
वह थोड़ी देर बाद खुद चुप हो जाएगा!!


अमीरों के चेहरे पे कभी मुस्कान नहीं होती,
गरीब के चेहरे पे कभी थकान नहीं होती!
सब कुछ खरीद सकती है दौलत इस दुनिया में…
पर शुक्र है मुस्कुराहट किसी की गुलाम नहीं होती!!


गिरा दे जितना पानी है तेरे पास ऐ बादल
ये प्यास किसी के मिलने से बुझेगी तेरे बरसने से नही!


कुछ ही देर की खामोशी है,
फिर कानों में शोर आएगा…
तुम्हारा तो सिर्फ वक्त है,
हमारा दौर आएगा!!


कैसे करूँ मैं साबित…कि तुम याद बहुत आते हो
एहसास तुम समझते नही…और अदाएं हमे आती नहीं!!


आरज़ू होनी चाहिए किसी को याद करने की,
लम्हें तो अपने आप ही मिल जाते हैं…
कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछियों को,
याद वही आते है जो उड़ जाते है!!


Hindi Shayari


कदर होती है इंसान की जरुरत पड़ने पर ही,
बिना जरुरत के तो हीरे भी तिजोरी में रहते है!!


दिल जीत लु वो नजर मै भी रखती हूँ,
भीड मैं नजर आऊ वो हुनर रखती हूँ!
वादा किया है मैने मुस्कराने का वरना,
इन आँखो मैं समुंदर मै भी रखती हूँ!!


मेरी नीम सी ज़िन्दगी शहद कर दे,
कोई मुझे इतना चाहे की हद कर दे !!


हँसकर जीना दस्तूर है जिंदगी का,
एक यही किस्सा मशहूर है जिंदगी का!
बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते,
यही सबसे बड़ा कसूर है जिंदगी का!!


कहीं फिसल ना जाओ ज़रा संभल के रहना,
मौसम बारिश का भी है, और मुहब्बत का भी।


शिकवे तो सभी को है जिंदगी से साहब,
पर जो मौज में जीना जानते है वो शिकायत नहीं करते!!


जिसको भी चाहा उसे शिद्दत से चाहा है,
सिलसिला टूटा नहीं है दर्द की ज़ंजीर का !!


बड़ी नादान है इस निकम्मे दिल की हरकतें,
जो मिल गया उसकी कदर ही नहीं..
और जो ना मिला उसे भूलता नहीं!!


उसे भूल कर जीना भी क्या जिना,
दम हे तो उसे पाकर दिखा…
लिख पत्थरो पर अपनी प्रेम कहानी,
और सागर को बोल दम हे तो इसे मिटा कर दिखा!!


वफा की तो आज भी वही कदर हे,
ये बात और हे की मिट गये टूट कर चाहने वाले!!


समंदर में ले जा कर फरेब मत देना,
तू कहे तो किनारे पे डूब जाऊं में!!


वो नादाँ इतना भी नही जानते,
सीने से लगा कर पूछते हे…की धड़कने तेज क्यू हे!!


कहानी तो मेरी भी खूबसूरत होती गालिब,
बस उसने तेवर ना बदले और में झुका नही !!


वक़्त लगेगा,
लेकिन सम्भल जाऊंगा…
ठोकरों से गिरा हूँ,
किसी की नज़रों से नहीं!!


Hindi Shayari


खुली आंखे भी देखने लगी है ख़्वाब तेरे यारा,
तेरी मोहब्बत की दीवानगी ने पागल बना दिया!!


वो कहती थी कलाई ना पकड़ा करो,
कितनी बार समझाया है तुम्हें…
बात ‘चूड़ियों’ की नहीं,
“जज़्बात” मचल जाते हैं!!


ऐसा कोई दिल नही जो कभी टुटा नही,
कांच से उम्मीद क्या रखना…
चल नई शुरुआत कर भूल के जो हो गया,
हाथ पे यु हाथ क्या रखना!!


शिद्दत-ऐ-दर्द से शर्मिन्दा नही मेरी वफ़ा ग़ालिब,
जिनसे रिश्ते गेहरे हो वो जखम भी गेहरे देते हे!!


मैं क्यों कहूँ उससे की मुझसे बात करो,
क्या उसे नहीं मालूम कि उसके बिना मेरा दिल नहीं लगता!!


दिल धड़कता है तो डर सा लगा रहता है…
कोई सुन ना ले, मेरी धड़कन मे नाम तेरा!!


बगैर जिसके एक पल भी गुजारा नहीं होता
सितम देखिए वही शख्स हमारा नहीं होता!!


नेकियाँ खरीदी हैं हमने
अपनी शोहरतें गिरवीं रखकर,
कभी फुर्सत में मिलना
ए जिंन्दगी तेरा भी हिसाब कर देंगे!!


कोई मिल जाए तुम जैसा
यह तो बहुत मुश्किल है,
पर तुम ढूँढ लो हम जैसा
मुमकिन ये भी नहीं!!


जिन्दगी से उल्फत सी होने लगी है,
शायद दिल को किसी की मोहब्बत की उम्मीद दिल में जगने लगी है!
तन्हा कटना मुस्किल है सफर ऐ जिन्दगी,
हमसफर के साथ की अब जरूरत महसूस दिल में होने लगी है!!


Hindi Shayari


मुझे जगाना मत कभी, मुझे सोने की आदत है
मुझे हसना मत कभी, मुझे रोने की आदत है
ज़िन्दगी भले मुझे कितने भी मौके दे दोस्तों ..
मुझे बताना मत कभी, मुझे खोने की आदत है!!


अपनी मौत भी क्या मौत होगी,
एक दिन यूँ ही मर जायेंगे तुम पर मरते मरते!!


सांसों के सिलसिले को ना दो ज़िन्दगी का नाम,
जीने के बावजूद भी मर जाते हैं कुछ लोग!!


मत पूछो कैसे गुजरता है हर पल तुम्हारे बिना,
कभी बात करने की हसरत कभी देखने की तमन्ना!!


बरसों सजाते रहे हम किरदार को मगर,
कुछ लोग बाज़ी ले गए, सूरत सँवार कर!!


मैं वक्त बन जाऊं, तु बन जाना कोई लम्हा,
मैं तुझमे गुजर जाऊं,तु मुझमे गुजर जाना!!


बहाना क्यों तलाश करते हो मसरूफ होने का,
बस इतना कह दिया करो अब दिल में जगह नहीं!!


उसकी जीत से हुई है ख़ुशी मुझको,
यही जवाब है अपनी हार का मेरे पास!!


किसी के दिल में बसना कोई बुरा तो नहीं,
किसी को दिल में बताना कोई खता तो नहीं!
गुनाह हो यह ज़माने की नज़र में तो क्या,
ज़माने वाले कोई खुदा तो नहीं!!


महफ़िल ना सही तन्हाई तो मिलती है,
मिलें ना सही जुदाई तो मिलती है!
प्यार में कुछ नहीं मिलता,
वफ़ा न सही बेवफाई तो मिलती है!!


कौन चाहता हैं खुद को बदलना,
किसी को नफरत तो किसी को प्यार बदल देता हैं!!


नींद आए या ना आए, चिराग बुझा दिया करो,
यूँ रात भर किसी का जलना, हमसे देखा नहीं जाता!!


गजब की चीज है, मेरे मेहबूब की मुस्कुराहट भी,
कमबक्त कातिल भी है और गम की दवा भी!!


खुद से खुद की मेरी जंग का अब तक सिला क्या है,
दर्द, बेबसी और घुटन के सिवा आखिर मिला क्या है!!


इतने बेवफा नही जो तुम्हे भूल जायेंगे,
अक्सर चुप रहने वाले प्यार बहोत करते है!!


तेरी जगह आज भी कोई नहीं ले सकता,
पता नहीं वजह तेरी खूबी है या मेरी कमी!!


Hindi Shayari


पहले इश्क़, फिर दर्द, फिर बेहद नफरत…
बड़ी तरकीब से तबाह, किया उसने मुझको!!


कागज़ की कश्ती से पार जाने की ना सोच,
चलते हुए तुफानो को हाथ में लाने की ना सोच…
दुनिया बड़ी बेदर्द है, इस से खिलवाड़ ना कर,
जहाँ तक मुनासिब हो, दिल बचाने की सोच!!


डरता हूँ कहने से की मोहब्बत है तुम से,
की मेरी जिंदगी बदल देगा तेरा इकरार भी और इनकार भी!!


दर्द है दिल में पर इसका एहसास नहीं होता,
रोता है दिल जब वो पास नहीं होता!
बर्बाद हो गए हम उसके प्यार में,
और वो कहते हैं इस तरह प्यार नहीं होता!!


एहसास तो बहुत हैं उसको भी मेरी मोहब्बत का,
वो तड़पाती इसलिए हैं कि मैं और भी टूट कर चाहूं उसे!!


अजनबी होकर भी अपना लगती है,
बनकर एहसास दिल मे रहती है!
वो हूर नही इंसा ही तो है,
फिर भी इंसानो से जुदा लगती है!!


मुस्कुराने के अब बहाने नहीं ढूँढने पड़ते,
तेरा नाम लेता हूँ ये तमन्ना भी पूरी हो जाती है!!


इश्क की गहराईयों में…खूबसूरत क्या है,
एक मैं हूँ एक तुम हो…और ज़रुरत क्या है!!


एक तेरा ख़्याल ही तो है मेरे पास,
वरना कौन अकेले में बैठे कर मुस्कुराता है!!


मुझे मालूम है ऐसा कभी मुमकिन ही नहीं,
फ़िर भी हसरत रहती है कि तुम याद करोगी!!


फासला रख के भी क्या हासिल हुआ,
आज भी मैं उसी का ख्वाब देखता हूँ!!


अपनों की साजिशो से परेशान जिंदगी,
गैरो से पूछती है, तरीका निजात का!!


तुम इतनी नादां भी नहीं हो की “समझ” न सको,
मेरी चंद लाइनों में सिर्फ तेरा ही “जिक्र” होता है!!


आँखों की नमी को ही, मुस्कान समझ लेना,
मुश्किल दिनों के गम को,आसान समझ लेना!
सूना हो जब भी दिल का, एहसास अकेले में,
अपने को ही तू घर का मेहमान समझ लेना!


रह रहकर जेहन में इक हूक सी उठती है
चाय की तलब सी हो गयी है तुम्हारी यादें!!


बिछड़ते हुए तुझे देख देख सोचता हूँ,
तू फिर मिलेगा तो बहुत कुछ बदला हुआ होगा!!


फुर्सत में गुजरना कभी दिल से होकर मेरे,
दर्द लिपट न जाये कदमों से तेरे तो फिर कहना!!


दर्द-ऐ-इश्क़ हुआ है मुझे,
मरहम-ऐ-महबूब की ज़रूरत है!!


ओवर टाइम करवा कर छोड़ता है,
तेरी यादों का दफ्तर इतवार को भी लगता है!!


लोग बदल जाते है सच में,
मैंने देखा है भरोसा करके!!


फिर भी एहसान तो बनता है आपका मुझपर,
दिल में चाहत का भरम लेके खूब जी तो लिये!!


Hindi Shayari


बिन धागे की सुई सी बन गयी है ये ज़िंदगी,
सीलती कुछ नहीं, बस चुभती चली जा रही है!!


जब भी तन्हाईयों के साये चीख़ते मुझमें,
एक परछाई सिसकती है बेजुबान मगर!!


कहने को कुछ भी पास नहीं है अपने,
और यह ख़ामोशी बड़बड़ा रही हैं!!


मुमकिन हे पलट कर में चला आऊ सफर से ,
वो नाम तो ले रूह की गेहराई से मेरा!!


इतना भी याद न आया करो की रातभर सो ना सके,
सुबह को सुर्ख आँखों का सबब पूछते है लोग !!


तेरी बेरुखी पे भी प्यार आता हे जान,
कि चलो कोई तो हे, जो इतनी सिद्दत से हमसे रूठा भी हे !!


मैं क्यों कहूँ उससे की मुझसे बात करो,
क्या उसे नहीं मालूम, कि उसके बिना मेरा दिल नहीं लगता!!


तेरे मासूम निगाहों के तकदिस कि कसम,
में सो भी जाऊँ तो तेरे ख्वाब जगा देते हें !!


इतनी हिम्मत तो नहीं,
किसी को हाल-ऐ-दिल सुना सके!
बस जिसके लिये उदास है,
वो महसूस करे तो काफी है!!


सुकून-ए-दिल के लिए कुछ तो एहतमाम करूँ,
ज़रा नजर जो मिले तो फिर उनसे बात करूँ!!


सुबह हो गई है तो आगाज़ किया जाएं,
इक सलाम के साथ तुझे याद किया जाएं!!


साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस [email protected] पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Hindi Shayari | किसी और से” हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

Hindi Short Stories

शायरियों के खजाने के लिए यहाँ क्लिक करें!!
अपने दोस्तों, रिश्तेदारों के साथ शेयर करें!
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply