Category Archives: Editoriel

13 कार्ड रम्मी ऑनलाइन खेलें और पैसे कमाएं | कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

साथिओं नमस्कार, आज हम आपके लिए एक ऐसी जानकारी “13 कार्ड रम्मी ऑनलाइन खेलें और पैसे कमाएं | कुछ महत्वपूर्ण बिंदु“:लेकर आएं हैं जिसे पढने के बाद आप अपने फ्री समय में भी पैसा कहा सकते हैं पढ़ें पूरा आर्टिकल


13 कार्ड रम्मी ऑनलाइन खेलें और पैसे कमाएं | कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

आज, हर कोई प्रौद्योगिकी में लिप्त है। 4 जी इंटरनेट की दुनिया में, बहुत से लोग वास्तविक दुनिया के बजाय स्मार्टफोन पर समय बिता रहे हैं।

उनमें से बहुत से लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपना समय बर्बाद कर रहे हैं, जबकि कुछ ऑनलाइन 13-कार्ड रम्मी गेम खेलकर अपने स्मार्टफोन को कमाई के हथियार के रूप में उपयोग करते हैं।

एक ऑनलाइन 13 कार्ड रम्मी गेम के प्रवेश के साथ, इसने हर किसी के दिल में एक बहुत ही विशेष स्थान हासिल किया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि रम्मी खेलने से आप एक अविश्वसनीय कमाई विकल्प के संपर्क में आ जाएंगे।

यदि आप ऑनलाइन रम्मी खेलना जानते हैं, तो यह एक तनाव-बस्टर के रूप में भी काम कर सकता है।

13-कार्ड रम्मी के बारे में याद रखने के लिए महत्वपूर्ण बिंदु:

यदि आप भी इस खेल से प्यार करते हैं और बहुत सारा पैसा कमाने की उम्मीद कर रहे हैं, तो आइए देखें कि
ऑनलाइन रम्मी कैसे खेलें।

● आपका पहला कदम उन सभी कार्डों को उचित क्रम में सेट करना होना चाहिए। इसलिए, जैसे-जैसे खेल आगे बढ़ेगा, आप किसी महत्वपूर्ण कार्ड का उपयोग करने से नहीं चूकेंगे और अपनी रणनीति के बारे में स्पष्ट रहेंगे।

● 13 कार्ड के दौरान रम्मी गेम को आपको एक अनुक्रम तैयार करने की आवश्यकता होती है जिसे ध्यान में रखते हुए आपको कार्ड छोड़ना होगा। एक अनुक्रम में एक ही सूट के शुद्ध अनुक्रम समूह 3 या 4 कार्ड बनाने के लिए, उदाहरण के लिए, हीरे के 2-3-4 कार्ड।

● इस खेल में जोकर का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण है। आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप इसे अपने अनुक्रमों के उच्च मूल्य के लिए उपयोग कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, आपको 3 और 4 के बजाय Q और K के साथ एक समूह बनाने के लिए एक जोकर रखना चाहिए।

● एक बार जब आप एक शुद्ध अनुक्रम बना लेते हैं, तो आप अब एक जोकर की मदद से एक और अनुक्रम बनाने के लिए आगे बढ़ सकते हैं।

● सभी सही कार्ड प्राप्त करने के बाद, एक सेट बनाने का प्रयास करें। उदाहरण के लिए, एक ही मूल्य के समूह 3 या 4 कार्ड लेकिन विभिन्न सूट जैसे, या प्रत्येक सूट।

● एक त्वरित निर्णय लेने की कोशिश करें; ताकि आपके विरोधियों को आपकी चाल के बारे में सोचने के लिए ज्यादा समय न मिले, इसके लिए आपको अपने कार्ड को अपने दिमाग में रखना होगा।

● सेट बनाते समय कार्ड समूह में रंग संयोजन की बेहतर व्यवस्था करें, ताकि गलती का अनुपात जितना संभव हो उतना कम हो जाएगा।

● बड़े नुकसान को रोकने के लिए उच्च मूल्य कार्ड को समाप्त करने पर रखें। मान लीजिए कि आपके पास 4 और 9 के 2 कार्ड हैं और आपको उनमें से किसी एक को निकालने की आवश्यकता है, तो कार्ड 9 निकाल दिया जाएगा।

निष्कर्ष
ऑनलाइन रम्मी कैसे खेलें, इसके बारे में सभी के माध्यम से जाना, यह कहना गलत नहीं होगा कि 13 कार्ड ऑनलाइन रम्मी गेम नियमों और रणनीति का खेल है। एक बार जब आप इसे सही कर लेते हैं, तो आप अपने बैंक बैलेंस को उच्च बना सकते हैं।

ऑनलाइन 13-कार्ड की रम्मी कैसे खेलें, यह याद रखने के लिए ये महत्वपूर्ण बिंदु आपको खेल को बेहतर तरीके से समझने में सहायता कर सकते हैं।

अब, आपको केवल 13-कार्ड रम्मी चैंपियन के रूप में बाहर आने के लिए अपने खेल में इसे बुद्धिमानी से लागू करने की आवश्यकता है।


साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “13 कार्ड रम्मी ऑनलाइन खेलें और पैसे कमाएं | कुछ महत्वपूर्ण बिंदु” हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!यह भी पढ़ें

Easy Way to Make Money | Roz Dhan App 

Best 3 Bollywood Biography Movies | जीवनी पर आधारित फिल्मे

साथियों नमस्कार, आज हम आपको कुछ ऐसी फिल्मों “Best 3 Bollywood Biography Movies | जीवनी पर आधारित फिल्मे” के बारे में बताने जा रहें हैं जो किसी न किसी महँ व्यक्ति के जिवन से प्रेरित है| इन फिल्मों को बनाने का उद्देश्य आम आदमी के जीवन में एक सकारात्मक परिवर्तन लाना था|

ऐसी कुछ फिल्में जो आपको अपने जीवन में जरुर देखना चाहिए| तो आइये बिना किसी देरी किए पढ़ें हमारा पूरा  आर्टिकल!


Best 3 Bollywood Biography Movies | जीवनी पर आधारित फिल्मे

दोस्तों, फ़िल्में हम सभी के जीवन पर एक गहरा प्रभाव डालती है| हम जिस तरह की फिल्में देखना पसंद करते हैं असल में हम हमारे जीवन में ठीक उसी तरह का परिवर्तन लाना चाहते हैं| इसीलिए अगर आपको फिल्में देखने का शौक है तो हमारे द्वारका बताई गई इन फिल्मों को देखना न भूलें|

1.  Black Friday | ब्लैक फ्राइडे 

स्त्रोत

साल 1993 के बॉम्बे ब्लास्ट तो आपको याद ही होंगे| फिल्म ब्लैक फ्राइडे बॉम्बे ब्लास्ट और उसके बाद पुलिस जाँच की पूरी कहानी बयां करती है| यह फिल्म देखना इसलिए भी महत्वपूर्ण है की इस फिल्म से हमें भारतीय पुलिस के जाँच करने के तरीके पता चलते हैं| हालाँकि इस फिल्म को बनने के बाद भारत में रिलीज़ होने में लगभग तिन साल लग गए| अनुराग कश्यप द्वारा निर्देशित यह फिल्म साल 2007 में बनी थी|

2. No One Killed Jessica | नो वन किल्ड जेसिका

स्त्रोत

साल 2011 में आई इस फिल्म नई दिल्ली के जेसिका लाल हत्याकांड पर आधारित है| नई दिल्ली में रहने वाले एक माडल जेसिका लाल की हत्या कथित तौर पर मनु शर्मा ने कर दी थी जो की कांग्रेस के एक मनोनीत सदस्य विनोद शर्मा का बेटा था| जिसके बाद अदालत नें मनु शर्मा और कई अन्य लोगों को साल 2006 में बा-इज्जत बरी कर दिया था| यह फिल्म इसी जेसिका लाल हत्याकांड पर आधारित है| इस फिल्म में रानी मुखर्जी और विद्या बालन ने अभिनय किया है|

3. Talwar | तलवार

स्त्रोत

नो वन किल्ड जेसिका की ही तरह 2008 के नोएडा के डबल मर्डर केस पर साल 2015 में आई फिल्म तलवार| इस केस में हत्या के मामले में घर में एक लड़की और घर के ही एक नौकर की हत्या कर दी गई थी| जिसमें अपनी बेटी आरुशी और नौकर हेमराज की हत्या के मामले में माता-पिता को ही दोषी ठहराया गया था| इस फिल्म में इरफ़ान खान, कोंकणा सेन शर्मा और नीरज काबी प्रमुख भूमिकाओं में है|

Best 3 Bollywood Biography Movies | जीवनी पर आधारित फिल्मे


साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Best 3 Bollywood Biography Movies | जीवनी पर आधारित फिल्मे” हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!यह भी पढ़ें

Prem Mandir Vrindavan | मथुरा का प्रेम मंदिर

Places to Visit in Amritsar | मेरी अमृतसर की यात्रा

Maha Shivratri Status | महाशिवरात्रि शायरी स्टेटस

साथियों नमस्कार, आज के इस अंक में हम आपके लिए लेकर आएं हैं महाशिवरात्रि पर कुछ खास “Maha Shivratri Status | महाशिवरात्रि शायरी स्टेटस” जिन्हें आप अपने दोस्तों रिश्तेदारों को भेजकर उन्हें महाशिवरात्रि की शानदार शुभकामनाएँ दे सकते हैं|


Maha Shivratri Status | महाशिवरात्रि शायरी स्टेटस

1. लोग नहीं समझेंगे मगर,
ये धन, दौलत, रुतबा सब तुम्हारे बिना व्यर्थ है महादेव!

2. ना महीनों की गिनती है ना सालों का हिसाब है,
मुहोब्बत आज भी महांकाल से बेइंतहा बेहिसाब है!!

3. डमरू बाजे जब शंकर का, दुनिया घुमा देता है…
भरोसा अगर महादेव पर है तो शक ना कर, महादेव जब चाहे तब बाज़ी घुमा देता है!!

4. बस महादेव के आने का इंतज़ार कर रहें हैं,
दिल साइन में नहीं आँखों में धड़क रहा है!!

5. महाशिवरात्रि की करो तैयारी,
आ रहें हैं डमरू धारी!!

6. ॐ नमः शिवाय शब्द में सारा जग समाए,
हर इच्छा पूरी कर जाए भोले बाबा वो कहलाए!!

Mahashivratri Status in Hindi

7. दुनिया वालों से हमें कोई काम नहीं है साहब,
दुनियां बनाने वाले महादेव को हम जानते हैं!!

8. में चूम लूँ मौत को, अगर मेरी एक प्रार्थना वो स्वीकारती हो…
बस मेरी चिता की राख से….बाबा महांकाल की भस्म आरती हो!!


साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Maha Shivratri Status | महाशिवरात्रि शायरी स्टेटस” हमारी यह कहानी कैसी लगी हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!यह भी पढ़ें:

Inspirational Quotes in Hindi | प्रेरणादायक कथन

Easy Way to Make Money | Roz Dhan App 

Easy Way to Make Money | Roz Dhan App


साथियों नमस्कार,
आज हम आपको बताने जा रहें है ऐसी Android  App के बारे में जिससे आपका इन्टरनेट से पेसे कमाने Easy Way to Make Moneyका सपना पूरा हो सकता है| इस एप्लीकेशन के माध्यम से  आप Play Store से Application डाउनलोड करके सीधे 50 रूपए का paytm कमा सकते हैं| आइये हम आपको बताते है की कैसे इस app के माध्यम से पेसे कमाए  सकते हैं|


Easy Way to Make Money | Roz Dhan App

RozDhan एक ऐसी ऐप है जिसमें आप अपने दोस्तों और परिवार के साथ वीडियो डाउनलोड और शेयर कर सकते हैं, जबकि आप वीडियो अपलोड करने के साथ भी पैसे कमा सकते हैं। इसके साथ ही RojDhan ऐप को अपने दोस्तों और परिवार के साथ साझा करके आप और अधिक पैसा कमा सकते हैं।

Easy Way to Make Money

आइये जानते हैं  Easy Way to Make Money | Roz Dhan App के बारे में…..

सबसे पहले आपको निचे दी गई लिंक से RozDhan app को डाउनलोड करना है जिसके बाद आपको 50 रूपए का paytm काश मिल जाएगा|

So. No RozDhan Invite Code RozDhan Download Link
1 060P0K (जीरो सिक्स जीरो पी जीरो के) Download Now

साइनअप बोनस पाने और app के माध्यम से अधिक से अधिक पैसे कमाने के लिए निचे दिए गए स्टेप फॉलो करें…

1) सबसे पहले ऐप को यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करें।

2) अब ऐप को खोलें और मोबाइल नंबर द्वारा साइनअप करें।

3) वेरिफिकेशन के बाद प्रोफाइल आइकन पर क्लिक करें।

बधाई हो!! आप को तुरन्त 25 रु। मिल गए !!

4) अब “Add Add Invite Code” पर क्लिक करें

Easy Way to Make Money

5) निमंत्रण कोड (INVITATION CODE) दर्ज करें

निमंत्रण कोड – 060P0K (जीरो सिक्स जीरो पी जीरो के)

बधाई! आपको साइनअप बोनस के रूप में एक और 25 रु मिले|


दोस्तों,  अब तक आप Easy Way to Make Money | Roz Dhan App से 50 रूपए कमा चुके हैं, अब हम आपको बताने जा रहें है की कैसे आप इस app में विडियो देखकर, आर्टिकल पढ़कर और इस app को अपने दोस्तों के साथ शेयर करके पैसे कमा सकते हैं|

RozDhan app पर आर्टिकल देखें और कमाएँ साथ ही अपने दोस्तों के साथ शेयर कर प्रति रेफरल पर 1250 सिक्का (रु 5) कमा सकते हैं।

दी गई स्टेप फोलो करें…

1) प्रोफाइल टैब पर क्लिक करें।

2) आमंत्रण विकल्प के माध्यम से अपने को आमंत्रित करें।

3) जब आपके दोस्तों ने रजिस्टर करने के बाद आपका निमंत्रण कोड दर्ज किया तो आपको 1250 सिक्के (Rs.05) मिलेंगे।

4) साथ ही आपके दोस्तों को भी 50 रु मिलेंगे।


नोट: –

  • 250 का सिक्का = Rs 1
  • अधिक कमाने के लिए आप अलग-अलग कार्य जैसे आर्टिकल शेयर, गेम खेलकर भी पैसा कमा सकते हैं
  •  उचित नेट स्पीड के बिना वीडियो देखें।
  •  वीडियो डाउनलोड और साझा किए जा सकते हैं।
  • 12 सरल प्रश्नों के उत्तर दें और अपने ज्ञान को बढ़ाते हुए पैसा कमाएं।
  • अपनी पूरी जानकारी भरकर दैनिक चेक पर भी पैसे कमाएँ।

अपनी कमाई को Paytm के माध्यम से लेने के लिए दी गई स्टेप को फॉलो करें!

1) प्रोफाइल आइकन पर क्लिक करें।

2) अब आय पर क्लिक करें।

3) अब अपने सिक्के को पैसे में बदलें। (यह स्वचालित रूप से अगले दिन में परिवर्तित हो जाता है)

4) बैंक / पेटीएम में अपना पैसा निकाल लें।


ध्यान दें:-

न्यूनतम निकासी 200 रु

आप एक दिन में अधिकतम 5 बार पैसा निकाल सकते हैं।


RozDhan App Payment Proff


तो दोस्तों आपको हमारा यह आर्टिकल “Easy Way to Make Money | Roz Dhan App” कैसा लगा हमें Comment कर जरुर बताएं| App को डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें| 50 रूपए का Paytm Cash पाने के लिए 060P0K (जीरो सिक्स जीरो पी जीरो के) Invitation Code डालें|


यह भी पढ़ें:-

Nathuram Godse | नाथूराम गोडसे जीवन परिचय

Navjot Singh Sidhu | नवजोत सिंह सिद्धू की पूरी कहानी

Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर कनेक्शन

 

Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर कनेक्शन

Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर कनेक्शन


नमस्कार, हमारी खास पेशकश में आपका स्वागत है| आज हम बालीवुड के दंबग याने कि सलमान खान से जुडी खबरों के साथ शुरुआत करेगें और जानेगे क्या है बजरंगी भाईजान का इंदौरी कनेक्शन। पढ़िए हमारा खास आर्टिकल “Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर कनेक्शन”

मै आपको बता दूं मै भी इंदौरी हूं और दबंग सलमान भी इंदौरी है। यूं तो सलामन खान के कई किस्से मिनी मुंबई (इंदौर) से लेकर मुंबई तक में फेमस है लेकिन आज हम आपको सलमान के बारे में वो बाते बताने जा रहे है जो आज तक आपकी समझ से बाहर है।


बालीवुड के दबंग सलमान खान मुंबईयां स्टार बनने के पहले मिनी मुंबई याने कि इंदौर की धडकन हुआ करते थे ये बात हम इसलिए भी कह रहे है क्योंकि देश ही नही दुनिया में अपने अभिनय के दम पर एक खास मुकाम हासिल करने वाले सलमान खान कभी इंदौर की गलियों में साईकिल चलाया करते थे और साथ ही यहां कंचे भी खेला करते थे।

हम ये चर्चा इसलिए भी कर रहे है क्योंकि सलमान खान इस समय इंदौर में है और इंदौर के रेवती रेंज में अपनी अपकमिंग मूवी दबंग 3 की शूटिंग में व्यस्त है।

इसके पहले इंदौर एयरपोर्ट के CCTV के 4 सेकंड के फुटेज नें इंदौर में फैंस की जिज्ञासाओं को बढा दिया हालांकि इसके पहले भी उनकी तस्वीरे सोशल मीडिया पर पाॅजिटीव साइन के साथ ट्रोल हुई है जब वे महेश्वर और मांडू में शूटिंग करने के लिए इंदौर पहुंचे थे।

लेकिन अब इंदौर के रेवती रेंज में वे सेना के जवानों के सामने अपनी अदाकारी का जलवा बिखेरेेगें मतलब दबंग 3 मूवी का कुछ हिस्सा रेवती रेंज में शूट किया जा रहा है।

Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर घर

हम आपको बता दे कि सलमान खान का इंदौर से गहरा नाता है। सलमान का जन्म 27 दिसंबर 1965 को इंदौर के कल्याणमल नर्सिंग होम में हुआ था। मुंबई में बसने से पहले सलमान के पिता सलीम खान अपने परिवार के साथ इंदौर में रहते थे आज भी ओल्ड पलासिया जैसे पाॅश इलाके में उनका पुश्तैनी मकान है और उनके नजदीकी रिश्तेदार आज भी इंदौर में ही रहते है।

सलमान आज भी इंदौर के उतने ही करीब है जितने की बालीवुड के। हम आपको बता दे कि सलमान खान के हाथ आप जो लकी ब्रेसलेट देखते है जिसका नाम फिरोजा ब्रेसलेट है वो उसे कभी नही उतारते है वजह है सलमान का इन्दोरी कनेक्शन। क्योंकि सलमान का ये ब्रेसलेट उनके चाचा ने इंदौर से खरीदा था और उनके पिता सलीम खान को दिया था।

जब सलमान का कॅरियर ढलान की ओर जा रहा था तब पिता सलीम ने उन्हे ये कहकर गिफ्ट में ब्रेसलेट दिया था की “अब इसे हाथ से नही उतारना।”

तो देखा आपने इंदौर के ब्रेसलेट में कितना दम है कि उसने बालीवुड को एक दबंग दे दिया। इंदौर में शूटिंग के लिए आए सलमान खान के दो भाई अरबाज और सोहेल खान है वही उनकी मां का नाम सलमा खान है।

उनकी सौतेली मां याने अपने जमाने की मशहूर कैबरे डांसर “हेलन” से भी उन्हे उतना ही प्यार है जितना अपनी सगी मां से। लेकिन इन दोनो मदर्स से भी बढ़कर इंदौर में कोई है जो अक्सर उन्हे याद करती है हालांकि सलमान भी उनसे इंदौर आकर मुलाकात करते है।

आपको बता दे कि इंदौर में जन्मे सलमान खान का 77 साल की एक महिला से बेहद खास नाता है जिसे दुनिया दाई मां का नाम देती है। सलमान का जन्म जिस कल्याणमल नर्सिंग होम में हुआ था वहां जन्म के समय रुक्मणि भाटी नामक दाई मां उन्हे तोहफे में मिली जिन्होने शुरुआती परवरिश में सलमान के परिवार को सहयोग दिया यहां तक जिस बाॅडी की वो नुमाईश करते है उसकी मालिश भी दाई मां ने बचपन में की थी।

इसके अलावा इंदौर के बीईंग ह्यूमन ग्रुप से जुडे सदस्यों से भी वे लगातार मुलाकात करते है। इतना ही इंदौर में रक्तदान को मिशन बनाने वाले अशोक नायक को सलमान ने देश के चुनिंदा लोगों में शामिल कर अपने ब्रांड को प्रमोट करने के लिए मिनी मुंबई से मुंबई भी बुलवाया।

कुल मिलाकर बालीवुड के बंजरंगी भाई जान को इंदौरी सलमान कहना ही मुनासिब होगा क्योंकि उनका इंदौर से नाता है पुराना भले ही आ गया हो नया जमाना लेकिन वो अपने जन्म स्थान को कभी नही भूलते।

दबंग 3 के दौरान हुआ विवाद:-

सालमन खान और विवादों का रिश्ता हमेशा से रहा है| इसी कड़ी में सलमान दबंग 3 के समय विवादों में घिरते नज़र आए जहाँ महेश्वर में शूटिंग के सुरन शिवलिंग के ऊपर स्टेज बनाने को लेकर भी सलमान खान विवादों में घिरते नज़र आए हालाँकि बाद में सलमान खान ने अपनी गलती पर माफ़ी मांगते हुए खुद को बहुत बड़ा शिवभक्त भी बताया|

इसी तरह मांडू में शूटिंग के दौरान सलमान खान की दबंग 3 की टीम के द्वारा मांडू में पौराणिक मूर्तियों को नुकसान पहुँचाने को लेकर भी सलमान खान विवादों में घिर गए थे|

इंदौर में चुनाव प्रचार में सलमान खान:- Salman Khan House

साल 2009 में सलमान खान कांग्रेस के नेता पंकज संघवी के चुनाव प्रचार के लिए इंदौर आए थे| पंकज संघवी उस समय मेयर का चुनाव लड़ रहे थे| हालाँकि सलमान के इंदौर आने और चुनाव प्रक्चार करने के बाद भी कांग्रेस प्रत्याक्षी को हार का सामना करना पड़ा था| सलमान ने पंकज संघवी के लिए चुँव प्रचार करने के लिए रुद शो भी किया था| सलमान के इन डोरे में रोड शो करने के दौरान सलमान के इन्दोरी फेंस सड़कों पर उमड़ आए थे|

दबंग 3

सलमान खान की फिल्म दबंग 3 जल्द ही 5 जून को रीलिज होने जा रही है| इस फिल्म को लेकर दर्शकों में खासा उत्साह है| फिल्म का निर्देशन अली अब्बास ने किया है|

हालाकिं सलमान खान से परे एक तबका अली अब्बास की फैन फोलोविंग का भी है जो अली अब्बास की हर फिल्म का इंतज़ार ठीक वैसे ही करते हैं जैसे सलमान खान के फैन्स सलमान खान की फिल्म का| अली अब्बास ने अब तक सलमान खान को लेकर टाइगर जिन्दा है और सुल्तान जैसी फ़िल्में भी बनाई है|

तो ये थी सलमान के इंदौर कनेक्शन से जुडी वो खबर जिसके बारे में कई लोग नही जानते थे याने सलमान का इंदौर कनेक्शन था आपकी समझ से बाहर जिसे हमने आपको समझाने का प्रयास किया है।


यह भी पढ़ें:-

Gulzar Shayari | Gulzar Poetry | 100 गुलज़ार शायरी

Manohar Parrikar | मनोहर पर्रीकर थे ताजी हवा के झोंकों का अहसास 

ग़दर फेम उत्कर्ष शर्मा | Utkarsh Sharma Biography in Hindi

 

साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर कनेक्शन“ पर हमारा यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार व्रत कथा

Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार व्रत कथा


भारतीय संस्कृति में “Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार व्रत कथा” बहुत ही अधिक महत्व है| भारत के कई क्षेत्रों जैसे बिहार व् उत्तरप्रदेश में ब्रहस्पतिवार व्रत का काफी ज्यादा महत्त्व है| इस दिन महिलाऐं व्रत पूजा कर भगवान् ब्रहस्पति को पप्रसन्न कर सुख सम्रद्धि की कामना करती है|

आज के इस लेख में हम भगवान् ब्रहस्पति की व्रत कथा और पूजन विधि के बारे में आपको बताने जा रहें हैं आशा है आपको हमारा यह लेख “Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार व्रत कथा” जरुर पसंद आएगा!


Vrat Katha – विधि

गुरुवार के व्रत में पीली वस्तुओं का दान एवं भोजन मुख्य है। महिलाओं को इस व्रत के करने पर कदली वृक्ष का पूजन करना चाहिए। पीली गाय के घी से बनाए गए भोजन से ही ब्राह्मणों को भोजन कराना चाहिए। इस दिन पुरुष बाल और दाढ़ी नहीं बनावें तथा महिलाएँ सिर भिगोकर स्नान नहीं करें।

बृहस्पतिवार को जो भी स्त्री-पुरुष व्रत करें, उनको चाहिए कि वह दिन में एक ही समय भोजन करें, क्योंकि इस दिन बृहस्पतेश्वर भगवान का पूजन होता है, भोजन पीले चने की दाल का करें, परन्तु नमक नहीं खावें। पीले वस्त्र पहनें, पीले ही फलों का उपयोग करें, पीले चंदन से पूजन करें।

पूजन के बाद प्रेमपूर्वक गुरु महाराज की कथा सुनना चाहिए। इस व्रत को करने से मन की इच्छाएँ पूरी होती हैं और बृहस्पति महाराज प्रसन्न होते हैं। धन, पुत्र, विद्या तथा मनवांछित फल की प्राप्ति होती है। परिवार को सुख-शांति मिलती है। इसलिए यह व्रत सर्वश्रेष्ठ और अति फलदायक है।

इस व्रत में केले का पूजन करना चाहिए। कथा और पूजन के समय मन, क्रम, वचन से शुद्ध होकर जो इच्छा हो बृहस्पतिदेव की प्रार्थना करनी चाहिए। उसकी इच्छाओं को बृहस्पति देव अवश्य पूर्ण करते हैं, ऐसा मन में दृढ़ विश्वास रखना चाहिए।

बृहस्पतिवार व्रत कथा

एक समय की बात है, भारत में एक नृपति नाम का राजा राज्य करता था, वह बड़ा ही प्रतापी और दानी था। वह नित्य प्रतिदिन मंदिर में दर्शन करने जाता था तथा ब्राह्मण और गुरु की सेवा किया करता था।

उसके द्वार से काई निराश होकर नहीं लौटता तथा वह प्रत्येक गुरुवार को व्रत पूजा दान किया करता था।  वह हर दिन गरीबों की सहायता करता, किन्तु ये सब बातें रानी को अच्छी नहीं लगतीं, वह न व्रत करती और न किसी को एक दमड़ी दान में देती थी तथा राजा से भी ऐसा करने को मना करती।

एक बार की बात है कि राजा शिकार खेलने वन गए हुए थे, घर पर रानी और दासी थी, उस समय गुरु भगवान एक साधु का रूप धारण कर
राजा के द्वार पर भिक्षा माँगने गए। तब रानी कहने लगी-“हे साधू महात्मा, मैं इस दान-पुण्य से तंग आ गई हूँ। मेरे से घर का कार्य तो समाप्त
नहीं होता, इस कार्य के लिए तो मेरे पतिदेव ही बहुत हैं।

अब आप ऐसी कृपा करें कि यह सब धन नष्ट हो जाए तथा मैं आराम से रह सकूँ।’ साधू बोले,  “हे देवी! तुम तो बड़ी विचित्र हो, संतान और धन से कोई दु:खी होता है| इसको सभी चाहते हैं, पापी भी पुत्र और धन की इच्छा करता है|

अगर आपके पास धन अधिक है, तो भूखे मनुष्यों को भोजन कराओ, प्याऊ लगवाओ, ब्राह्मणों को दान दो, धर्मशाला, तालाब, कुआँ, बावड़ी, बाग- बगीचे आदि का निर्माण कराओ, निर्धन मनुष्यों की कुंवारी कन्याओं का ब्याह कराओ और अनेकों यज्ञादि धर्म करो। इस प्रकार के कर्मों से आपके कुल और आपका नाम परलोक में सार्थक होगा एवं स्वर्ग की प्राप्ति होगी।”

मगर रानी साधू की इन बातों से खुश नहीं हुई। वह बोली-“हे साधु महाराज! मुझे ऐसे धन की भी आवश्यकता नहीं, जिसको और मनुष्यों को दान दें तथा जिसको रखने-उठाने में मेरा सारा समय बराबर हो जाए।”

साधु ने कहा- हे देवी! तुम्हारी ऐसी इच्छा है, तो ऐसा ही होगा। मैं तुम्हें बताता हूँ वैसा ही करना। बृहस्पतिवार के दिन घर को गोबर से लीपना, अपने केशों को धोना, केशों को धोते समय स्नान करना, राजा से कहना वह हजामत करवाये, भोजन में मांस-मदिरा खाना, कपड़े धोबी के यहाँ धुलने डालना।

Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार व्रत कथा

इस प्रकार सात बृहस्पतिवार करने से तुम्हारा सब धन नष्ट हो जाएगा। ऐसा कहकर साधु वहाँ से अन्तर्ध्यान हो गए। रानी ने साधु के कहे अनुसार वैसा ही किया। तीन बृहस्पतिवार ही बीते थे कि उसका सारा धन नष्ट हो गया और भोजन के लिए दोनों समय तरसने की नौबत आ गई।

सांसारिक भोगों से दु:खी रहने लगे। तब राजा ने रानी से कहा कि- “तुम यहाँ रहो मैं दूसरे देश जाता हूँ, क्योंकि यहाँ पर मुझे सभी मनुष्य जानते हैं। इसलिए कोई कार्य नहीं कर सकता, देश चोरी परदेश भीख बराबर है।

ऐसा कहकर राजा परदेश चला गया। वो वहाँ जंगल से लकड़ी काटकर लाता, शहर में बेचता। इस तरह जीवन व्यतीत करने लगा। इधर राजा
के घर रानी और दासी दु:खी रहने लगीं। किसी दिन भोजन मिलता और किसी दिन सिर्फ पानी पीकर ही रह जातीं।

एक समय रानी और दासी के सात दिन बिना भोजन के ही बीत गए, तो रानी ने दासी से कहा-“हे दासी! यहाँ से पास के गाँव में मेरी बहन रहती है। वह बड़ी धनवान है, तू उसके पास जा और पाँच सेर बेझर माँग ला, जिससे कुछ समय के लिए गुजर हो जाएगी।

इस तरह रानी की आज्ञा मानकर दासी उसकी बहन के पास गई। रानी की बहन उस समय पूजन कर रही थी, क्योंकि उस रोज बृहस्पतिवार था, जब दासी रानी की बहन से बोली-“हे रानी! मुझको तुम्हारी बहन ने भेजा है, पाँच सेर बेझर दे दो।’

इस प्रकार अनेक बार कहा-परन्तु रानी ने कुछ उत्तर न दिया, क्योंकि वह उस समय बृहस्पतिवार की कथा सुन रही थी। इस प्रकार
जब दासी को कोई उत्तर नहीं मिला, तो वह बहुत दु:खी हुई एवं क्रोध भी आया और लौटकर रानी के पास आकर बोलीं-“हे रानी! तुम्हारी बहन तो बड़ी अभिमानी है, वह छोटे मनुष्यों से बात भी नहीं करती, जब मैंने उससे कहा तो उसने कोई उत्तर नहीं दिया, इसलिए मैं वापस चली आई।”

रानी बोली-“हे दासी! इसमें उसका कोई दोष नहीं है, जब बुरे दिन आते हैं, तो कोई सहारा नहीं देता, अच्छे-बुरे का पता आपत्ति में ही लगता है, जो ईश्वर की इच्छा होगी, वही होगा, यह सब हमारे भाग्य का दोष है। उधर, उस रानी ने सोचा मेरी बहन की दासी आई थी, परन्तु मैं उससे नहीं बोली।

इससे वह बहुत दुःखी हुई होगी, यह सोच कथा सुन विष्णु भगवान का पूजन समाप्त कर वह बहन के घर चल दी और जाकर अपनी बहिन से बोली- हे बहन! तुम्हारी दासी आई, तब मैं बृहस्पति की कथा सुन रही थी और जब तक कथा होती है, न उठते हैं न बोलते हैं, इसलिए मैं न बोली।

कहो दासी क्यों आई थी।” रानी बोली-“बहन! हमारे अनाज नहीं था, वैसे तुमसे कोई बात छुपी नहीं है, इसलिए मैंने दासी को पाँच सेर बेझर लेने भेजा था।”

Brihaspativar Vrat Katha – बृहस्पतिवार व्रत कथा

रानी बोली-“देखो बृहस्पतिवार देव सबकी मनोकामना पूर्ण करते हैं, देखो शायद तुम्हारे घर में अनाज रखा हो।” इस प्रकार जब रानी ने सुना तो वो घर के अन्दर गई, वहाँ उसे एक घड़ा बेझर का भरा मिला, जिससे रानी और दासी बहुत खुश हुईं, तब दासी कहने लगा-“हे रानी! वैसे हमको अन्न नहीं मिलता है, तो हम रोज ही व्रत करते हैं, अगर इनसे व्रत की विधि और कथा पूछ ली जाए, तो उसे हम भी किया करें।’

तब रानी ने अपनी बहन को बताया कि- “हे बहन! बृहस्पतिवार के व्रत की कथा क्यों तथा यह व्रत
कैसा करना चाहिए?” रानी की बहन ने कहा-“गुरु के व्रत में चने की दाल, मनुक्का से विष्णु भगवान का केले की जड़ में पूजन करें व कहानी सने तश पीला भोजन करें। इस प्रकार करने से गुरु भगवान प्रसन्न होते हैं, अन्न, पत्र धन देते हैं व मनोकामना पूर्ण करते हैं।

इस प्रकार रानी व दासी ने निर्णय किया कि बृहस्पति भगवान का पूजन जरूर करेंगे। सात रोज बाद जब बृहस्पतिवार आया, तो उन्होंने व्रत रखा और घुड़साल से जाकर चना, गट बीन लाई तथा इसकी दाल से केले की जड़ में विष्णु भगवान का पूजन किया।

अब पीला भोजन कहाँ से आवे, सोचकर बेचारी बड़ी दु:खी हुई, परन्तु उन्होंने व्रत किया था, इसलिए गुरु भगवान प्रसन्न थे, दो थाल में पीला भोजन लेकर आए और दासी को देखकर बोले-“हे दासी! यह तुम्हारे और रानी के लिए है, तुम दोनों करना।”

दासी भोजन पाकर प्रसन्न हुई और रानी से बोली-“चलो रानीजी भोजन कर लो।’ रानी को इस विषय में कुछ पता नहीं था, इसलिए वह बोली-“तू ही भोजन कर, तू क्यों व्यर्थ में हमारी हँसी उड़ाती है।” दासी बोली-“एक महात्मा दे गए हैं।” रानी कहने लगी-“वह भोजन तेरे लिए दे गये हैं तू कर।”

दासी ने कहा-“वह महात्मा हम दोनों के लिए दो थाली में भोजन दे गये हैं, इसलिए हम दोनों साथ-साथ भोजन करेंगी।” इस प्रकार दोनों ने गुरु भगवान को नमस्कार कर भोजन किया तथा अब वे प्रत्येक बृहस्पति को गुरु भगवान का व्रत व विष्णु पूजन करने लगी। बृहस्पति भगवान की कृपा से दोनों के पास फिर धन हो गया|

रानी फिर उसी प्रकार आलस्य करने लगी, तो दासी बोली-“देखो रानी, तुम पहले भी इसी तरह आलस्य करती थीं, बड़ी मुसीबतों के बाद हमने धन पाया है, इसलिए हमें दान-पुण्य करना चाहिए, भूखे मनुष्यों को भोजन कराओ, प्याऊ लगाओ, ब्राह्मणों को दान दो, कुआँ, तालाब, बावड़ी, मंदिर, पाठशाला आदि का निर्माण करवाओ, कुंवारी कन्याओं का विवाह करवाओं, शुभ कार्यों में खर्च करो, जिससे तुम्हारे कुल का यश बढ़े,

जब रानी ने इसी प्रकार कर्म करने आरंभ किए, तो काफी यश फैलने लगा। एक दिन रानी व दासी विचार करने लगीं। राजा न जाने किस प्रकार होंगे, उनकी कोई खबर नहीं। गुरु भगवान से उन्होंने प्रार्थना की तो भगवान ने राजा को स्वप्न में कहा-“हे राजा! उठ तेरी रानी तुझको याद करती है, अपने देश को जा।”

राजा प्रातः उठा और सोचने लगा स्त्री जाति खाने और पहनने की संगीनी होती है, पर भगवान की आज्ञा मानकर वो अपने नगर के लिए रवाना हुआ।

इससे पूर्व जब राजा परदेस आया तो दु:खी रहने लगा| प्रतिदिन जंगल से लकड़ी लाता और उन्हें शहर में बेचकर अपना जीवन व्यतीत करता। एक दिन राजा अपनी पुरानी बातों को याद कर दु:खी हो रोने लगा। तब बृहस्पतिदेव एक साधु का रूप धारण कर आए। राजा के पास आकर बोले-“हे लकड़हारे! तुम इस जंगल में किस चिंता में डूबे हो, मुझको बताओ।”

यह सुन राजा की आँखों में आँसू भर आए और साधु को वंदना कर बोला-“हे प्रभु! आप सब कुछ जानने वाले हो।’ इतना कह साधु को
अपनी सारी कहानी बतला दी। महात्मा दयालु होते हैं, उससे बोले-“हे राजा! तुम्हारी स्त्री ने बृहस्पति देव का अपमान किया था, इस कारण तुम्हारी यह दशा हुई, अब तुम किसी प्रकार की चिंता मत करो।

भगवान तुम्हें पहले से अधिक धन देंगे, देखो तुम्हारी स्त्री ने भी गुरुवार का व्रत आरंभ किया है। अब तुम मेरा कहा मानो-बृहस्पतिवार को व्रत करके चने की दाल, गुड़ जल के लोटे में डालकर केले की जड़ में पूजन करो, कथा कहो और सुनो, भगवान तुम्हारी सब मनोकामनाएँ पूर्ण करेंगे।”

साधु को देख राजा बोला- “हे प्रभु! लकड़ियाँ बेचकर मुझे इतना पैसा नहीं मिलता, जिससे भोजन करने के बाद कुछ बचा सकें, मैंने रात्रि को अपनी रानी को व्याकुल देखा है। मेरे पास कुछ भी नहीं, जिससे उसकी खबर मंगा सकूँ और कौन-सी कहानी कहूँ, यह भी मुझे मालूम नहीं।”

साधु ने कहा-“हे राजा! तुम किसी बात की चिंता मत करो, बृहस्पतिवार के दिन तुम रोजाना की तरह लुकड़ियाँ लेकर शहर जाओ, तुमको रोज से दुगुना धन प्राप्त होगा, जिससे तुम भली-भाँति भोजन कर लोगे ‘तथा बृहस्पतिदेव की पूजा का सामान भी आ जाएगा|

भगवान की आगया पाकर राजा सकुशल अपने देश लौटा और अपनी पत्नी व दासी के साथ फिर से सुखी जीवन जीने लगा|


Brihaspativar Vrat Katha aarti – ब्रहस्पति जी की आरती 

ॐ जय ब्रहस्पति देवा, स्वामी जय ब्रहस्पति देवा|
छीन-छीन भोग लगाऊं, कदली फल मेवा||ॐ जय||

तुम पूरण परमात्मा, तुम अंतर्यामी|
जगत पिता जगदीश्वर, तुम सबके स्वामी||ॐ जय||

चरणामृत निज निर्मल, सब पातक हर्ता|
सकल मनोरथ दायक, कृपा करो भर्ता||ॐ जय||

तन, मन, धन अर्पण कर जो शरण पड़े|
प्रभु प्रकट तब होकर, आकर द्वार खड़े||ॐ जय||

दीनदयाल, दयानिधि, भक्तन हितकारी|
पाप दोष सब हर्ता, भाव बंधन्हारी||ॐ जय||

सकल्मानोरथ दायक, सब संशय तारी|
विषय विकार मिटाओ, संतान सुखकारी||ॐ जय||

जो कोई आरती तेरी प्रेम सहित गावे,
जेष्ठानंद, बंद सो-सो निश्चय फल पावे||ॐ जय||

 


पढ़ें कहानी चित्तोड़ की रानी पद्मावती की-Rani Padmawati History in Hindi

Inspirational Quotes in Hindi

साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Gulzar Shayari पर हमारा यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

विराट-अनुष्का की प्रेम कहानी | Virat Anushka | Virushka

विराट-अनुष्का की प्रेम कहानी | Virat Anushka | Virushka


|| Virushka || रहे कोई सौ पर्दों में, डरे शरम से,  नज़र अज़ी लाख चुराए कोई सनम से..
आ ही जाता है दिल जिस पर आना होता है, प्यार दीवाना होता है मस्ताना होता है|| Virat Anushka ||

जी हाँ, प्यार वाकई में दीवाना होता है! लेकिन आज हम आपसे यह बात ऐसे ही नहीं बोल रहे, बात यह है की हाल ही में लड़कियों के दिलों की धड़कन कहे जाने वाले विराट कोहली और अनुष्का शर्मा  (virat anushka) 5 साल की अपनी लम्बी रिलेशनशिप (Relationship) के बाद आख़िरकार शादी के बंधन में बांध ही गए| जी हाँ, गत 12 दिसम्बर को क्रिकेटर विराट कोहली और अनुष्का शर्मा (Virushka) ने इटली में शादी कर ली है| आइये जानते हैं की आखिर इस रिश्ते की शुरुआत कैसे हुई…(Love Story of Virat Anushka)

Virat Anushka | Virushka

विराट-अनुष्का की प्रेम कहानी | Virat Anushka | Virushka

इस प्रेम कहानी की शुरुआत होती है एक कंपनी के एड-शूट के लिए लगाए गए सेट से, जब पहली बार विराट और अनुष्का को एक दुसरे को जानने का मोका मिला| यूं तो विराट और अनुष्का एक दुसरे से पहले भी मिल चुके थे|

पर यह साल 2013 का वह दिन था जब दोनों को एक दुसरे के साथ समय बिताने का मोका मिला| दोनों उस एड शूट में एक दुसरे में इतना खो गए की एक दुसरे को अपना दिल दे बेठे|इस रिश्ते का पता तब चला  जब 2014 में दक्षिण अफ्रीका दौरे से आने के बाद विराट कोहली सीधे अनुष्का शर्मा से मिलने चले गए|

जिसके बाद कई बार विराट और अनुष्का को साथ साथ देखा गया| धीरे-धीरे दोनों का प्यार परवान चड़ने लगा| फरवरी 2014 में टीम इंडिया (Team India) जब न्यूजिलेंड में मैच सीरिज़ खेलने गसी तो अनुष्का से विराट की जुदाई देखि नहीं गई और वह विराट से  मिलने न्यूजिलेंड पहुच गई, बदले में प्यार जताते हुए विराट भी pk  फिल्म की शूटिंग के दौरान अनुष्का का जन्मदिन मनाने उदयपुर पहुँच गए|

साल के ख़त्म होते-होते दोनों के प्यार के चर्चे जग जाहिर हो गए| हद तो तब हो गई जब एक मैच के दौरान विराट ने शतक लगने पर सबके सामने अनुष्का को फ्लाइंग किस दे दिया| जिसके बाद एक प्रेस कांफ्रेंस में पूछे जाने पर विराट कोहली (Virat kohli) ने इस रिश्ते को  सभी के सामने कबुल कर लिया|

क्या हुआ जब “सुभाष चन्द्र बोस” को अंग्रेजों ने निचा दिखने की कोशिश की थी!

ब्रैकअप की ख़बरें  ( Virat Anushka | Virushka Breakup)

Virushka

ख़बरों के मुताबिक साल 2015 में ही विराट अनुष्का से शादी करना चाहते थे और उन्होंने अनुष्का को शादी के लिए प्रपोज भी कर दिया, लेकिन अनुष्का तब अपने करियर पर ध्यान देना चाहती थी इसलिए उन्होंने विराट के प्रपोजल को ठुकरा दिया|

विराट कोहली को यह बात नागवार गुजरी और इसी बात को लेकर दोनों के बिच ब्रैकअपहो गया| दोनों के बिच नाराजगी इस कदर थी की दोनों ने एक दुसरे को इन्स्टाग्राम पर अन-फॉलो तक कर दिया| ब्रैकअप का असर दोनों के करियर पर भी पड़ा|

विराट कोहली का क्रिकेट करियर धीरे-धीरे ख़त्म होता नज़र आ रहा था वहीँ अनुष्का शर्मा की बोम्बे वेलवेट भी फ्लॉप रही|

लगभग एक साल एक दुसरे से दूर रहने और एक दुसरे को मिस करने के बाद दोनों को अहसास हुआ की दोनो एक दुसरे के लिए बने हैं| हालाकिं मार्च 2016 के आते-आते विराट (Virat kohli) के फेंस ने सोशल मीडिया पर विराट कोहली और अनुष्का शर्मा को लेकर कई तरह की बातें करना शुरू कर दी|

बातों ने धीरे-धीरे जोक्स का रूप लेना शुरू कर दिया| सोशल मीडिया पर विराट और अनुष्का को लेकर जोक्स विराट को नागवार गुज़रे, एक दिन विराट अनुष्का के समर्थन में सोशल मीडिया के मैदान में उतरे और ट्विटर और इन्स्टाग्राम पर मजाक उड़ाने वालों की जमकर खबर ली|

विराट कोहली (Virat Kohli) ने ट्विटर और इन्स्टाग्राम पर लिखा “लगातार बिना रुके अनुष्का शर्मा का मजाक उड़ने वालों को शर्म आना चाहिए,  कुछ तो शर्म कर लो उसने मुझे हमेशा सकारात्मकता ही दी है|” यह बात अनुष्का के दिल को भा गई और एक बार फिर दोनों एक दुसरे के करीब आ गए|

दोनों का इश्क फिर से परवान चड़ने लगा और युवराज सिंह और हेजल की शादी पार्टी में दोनों ने एक साथ डांस कर के खूब इंजॉय किया| साल 2017 में वैलेंटाइन्स-डे के मोके पर दोनों ने एक दुसरे के प्यार का सार्वजनिक तौर पर इज़हार कर दिया

और आखिकार हाल ही में 12 दिसम्बर को विराट कोहली और अनुष्का शर्मा इटली में शादी के बंधन में बंध गए|

[amazon_link asins=’B078DZHCMQ,B0774K3YT1,B01BRA9GD8,B07PRW6BLG,B074DFJRZF’ template=’ProductCarousel’ store=’anchormohit-21′ marketplace=’IN’ link_id=’c6ac8253-d05a-475e-9a09-c7c6a10c9d49′]


साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Hindi Story | भगवान का सत्कार हमारी यह कहानी कैसी लगी हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

यह भी पढ़े-

कहानी चित्तोड़ की रानी पद्मावती की-Padmawati Story

Salman Khan House | दबंग सलमान का इंदौर कनेक्शन

Rani Padmawati History in Hindi | कहानी चित्तोड़ की रानी पद्मावती की

साथियों नमस्कार, आज हम आपके लिए एक खास Article “Rani Padmawati History in Hindi | कहानी चित्तोड़ की रानी पद्मावती की” लेकर आएं हैं जो आपको इतहास के उन पन्नों की और ले जाएगा जिसे पढ़कर आप खुद को भारतीय होने पर गोरवान्वित महसूस करेंगे|


Rani Padmawati History in Hindi | कहानी चित्तोड़ की रानी पद्मावती की

चित्तोड़ (chittor), वीरता और पराक्रम का जीता जागता उदारहण है| अपनी पुरातात्विक धरोहर को समेटें हुए चित्तोड़ का विशाल किला (chittorgarh fort) आज भी अपनी गाथाएँ कह रहा है!

वर्षभर चित्तौड़गढ़ के इस विशाल किले को देखने के लिए दूर-दूर से लोग चित्तोड़ आते हैं। विदेशों तक में भी इस किले की बनावट एवं खूबसूरती का जिक्र होता है। किले के एक-एक भाग को बारीकी से देखने एवं समझने के लिए पर्यटकों की भीड़ हमेशा लगी रहती है।

लेकिन इसी किले का एक हिस्सा ऐसा है, जहां जाने की कोई हिम्मत नहीं करता।
“चित्तौड़गढ़ किले का ‘जौहर कुंड’, जहां जाना तो दूर, कोई ख्याल में भी इस जगह के पास जाने की नहीं सोचता।

हालाकिं कुछ लोगों ने इस जगह पर जाने की कोशिश भी की है, लेकिन वे आखिर में इस कुंड तक पहुंचने में असफल हो जाते हैं। ऐसा कुछ लोगो का कहना है, कि जोहर की चीख ओर साधारण जनता का विलाप आज भी रात में इस किले में गूंजता है!

Rani Padmawati History in Hindi

रानी पद्मिनी, चित्तौड़ की रानी थीं। वे सिंहल द्वीप के राजा गंधर्व सेन और रानी चंपावती की बेटी थीं। बचपन से ही उनके माथे के तेज और खूबसूरती के चर्चे हर जगह होते थे। रानी पद्मिनी के बड़े होने पर जब विवाह का समय आया तो, अपनी सुंदर-सुशील पुत्री के लिए राजा ने स्वयंवर का प्रबंध किया।

किंतु यह कोई सामान्य स्वयंवर नहीं था। कहते हैं, कि भारत के इतिहास में आज तक हुए सभी स्वयंवर में सबसे चर्चित स्वयंवर था, राजकुमारी पद्मिनी का। क्योंकि इस स्वयंवर में स्वयं राजकुमारी ने एक शर्त रखी थी, जिसे जान वहां आए सभी राजा-महाराजा चकित रह गए थे।

राजकुमारी की शर्त के अनुसार वे उसी से विवाह करेंगी जो उनके द्वारा मैदान में उतारे हुए योद्धा को पराजित कर सकेगा। आए हुए सभी राजा-महाराजा को आश्चर्य तो तब हुआ, जब बाद में सबको यह ज्ञात हुआ कि वह योद्धा कोई और नहीं, वरन् स्वयं राजकुमारी पद्मिनी ही थीं।

खैर, स्वयंवर आरंभ हुआ, एक के बाद एक दावेदार उस योद्धा को हराने के लिए आगे आए, लेकिन किसी में इतना कौशल नहीं था कि वे उसे पराजित कर सकें। तब आए चित्तौड़ के राजा रतन सिंह(Ratan singh) और उन्होंने उस योद्धा को हराकर शर्त जीत ली। ओर रानी पद्मिनी से उनका विवाह हुआ!

कहानी चित्तोड़ की रानी पद्मावती की-Padmawati Story

12 वी और 13 वी शब्ताब्दी में दिल्ली के शाशकों का मेवाड़ पर आक्रमण बढ़ रहा था! इसी बिच अल्लाउद्दीन खिलजी (alluddin khilji) को चित्तोड़ की रानी पद्मावती की सुन्दरता के बारे में पता चला तो अल्लाउद्दीन खिलजी रानी पद्मिनी को पाने को आतुर हो गया और अपनी विशाल सेना के साथ चितोड़ आ धमका!

अल्लाउद्दीन खिलजी ने राजा रतन सिंह को संदेशा भिजवाया की वो रानी पद्मावती को बहन के रूप में देखता है और उनसे एक बार मिलना चाहता है!

राजा रतन सिंह को अपने दुर्ग (FOrt) को अल्लाउद्दीन खिलजी की सेना से बचाने का एक मौका मिल गया! राजा ने अल्लाउद्दीन खिलजी की बात को मानते हुए रानी पद्मावती (Padmawati) को कांच में दिखाने का निर्णय लिया|

लेकिन अल्लाउद्दीन खिलजी रानी के सोंदर्य को देख कर मोहित हो गया| अल्लाउद्दीन खिलजी ने राजा रतन सिह को धोके से बंदी बना लिया और राजा रतन सिंह के बदले में रानी पद्मावती की मांग की|

चित्तोड़ के सेनिकों को जब इस बात का पता चला तो वे रानी और उनकी दासियों के वेश में पालकियों में बेठ कर दुर्ग से निचे अल्लाउद्दीन खिलजी के तम्बू तक गए जहाँ रजा रतन सिंह को बंदी बना कर रखा गया था|

पालकियों से निचे उतरते ही चित्तोड़ के सैनिकों ने अल्लाउद्दीन खिलजी की सेना से मरते दम तक युद्ध किया| राजा और उनके सैनिकों की वीरगति का समाचार पा रानी पद्मिनी ओर 16000 राजपूत रमणीया जोहर की आग में कूद गई, जिससे मुसलमानो के हाथों कुछ ऐसा ना लगे कि वे हिन्दू समाज का अहित कर सके !!

तो यह थी Rani Padmawati History in Hindi अगर  आपको हमारी कहानी पसंद आई हो तो  हमारा पेज Likeकरना  ना भूले!

Hindi Short Story डॉट कॉम


साथियों आपको “Short Moral Story” हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट सेक्शन में ज़रूर बताएं और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें|

साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

यह भी पढ़ें:-

अनुष्का की प्रेम कहानी|Love Story of Virat kohli-Anushka Sharma

 

Inspirational Quotes in Hindi | प्रेरणादायक कथन

साथियों नमस्कार, आज हम आपके लिए देश विदेश की कुछ महान हस्तियों द्वारा कहे गए ऐसे प्रेरणादायक विचार “Inspirational Quotes in Hindi” लेकर आएं हैं जिन्हें पढ़कर आपके जीवन में भी प्रेरणा का संचार होगा|


Inspirational Quotes in Hindi | प्रेरणादायक कथन

उड़ने में कोई बुराई नहीं है..लेकिन वहीं तक जहा से ज़मीं साफ दिखाई देती हो !


रास्ते कभी ख़त्म नहीं होते…बस लोग हिम्मत हर जाते हैं !


तैरना सीखना है तो नदी में कूदना ही होगा…नदी किनारे बेठ कर कोई गोताखोर नहीं बनता !


बिच रास्ते से लौटने का कोई फायदा नहीं , क्यों की लौटने पर आपको उतनी ही दुरी तय करना पड़ेगी जितनी दुरी तय करके आप लक्ष्य तक पहुंचे हैं !


हीरे को परखना है तो अँधेरे का इंतजार करो, धुप में तो कांच के टुकड़े भी चमकने लगते हैं !


मैदान में हारा हुआ इन्सान फिर से जित सकता है, लेकिन मन से हारा हुआ इन्सान कभी नहीं जित सकता !


सफलता हमारा परिचय दुनिया को  कराती है, और असफलता हमें दुनिया का परिचय कराती है !


पढ़े ज़िन्दगी की कहानी- रेल

बादशाह तो वक्त होता है, इन्सान तो यूँ ही गुरुर करता है !


सपने वो नहीं जो हम नींद में देखते हैं, सपने वो है जो हमें नींद नही आने देते !


संघर्ष ही इन्सान को मजबूत बनाता है , फिर चाहे वो कितना भी कमजोर क्यों ना हो !


जो मंजिलो को पाने की चाहत रखते हैं, वो समन्दरों पर भी पत्थरों के पुल बना देते हैं !


स्वार्थी मित्रों से बड़ा और कोई शत्रु नहीं होता !


अपनों को हमेशा अपना होने का अहसास दिलाओ, वरना वक्त आपको हमेशा अपनों के बिना जीना सिखा देगा !


पढ़े हिंदी कविता- भूख

ज़िन्दगी में कठिनाइयाँ आए तो उदास ना होना, क्यों की मुश्किल किरदार अच्छे एक्टर को ही मिलते हैं !


रस्ते बदलो मत, रस्ते बनाओ !


अपने सपनों को जिंदा रखिये, अगर आपके सपनों की चिंगारी बुझ गई तो इसका मतलब आपने जीते जी आत्महत्या कर ली है !


अगर हारने से दर लगता है तो जितने की इच्छा कभी मत रखना !


काम एसा करो की नाम हो जाए या फिर नाम एसा करो की नाम सुनते ही कम हो जाए !

प्रेरणादायक कथन

द्रष्टि बदली जा सकती है श्रृष्टि नहीं, द्रष्टि बदलो श्रृष्टि अपने आप बदली हुई नज़र आएगी !

                                                                                              Inspirational Quotes in Hindi


साथियों आपको “Inspirational Quotes in Hindi | प्रेरणादायक कथन” हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमें कमेंट सेक्शन में ज़रूर बताएं और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें|

साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

यह भी पढ़ें:-

धीरू भाई अम्बानी की बायोग्राफी” हिंदी में
Biography of DhiruBhai Ambani in Hindi

Diwali Wishes in Hindi | दिवाली की शुभकामनाएँ

साथियों नमस्कार, सम्पादकीय कालम में इस बार पाठकों की विशेष फरमाइश पर हम दिवाली शुभकामना सन्देश “Diwali Wishes in Hindi | दिवाली की शुभकामनाएँ” लेकर हाज़िर हैं !


Diwali Wishes in Hindi | दिवाली की शुभकामनाएँ

दिवाली है रौशनी का त्यौहार,फैले हर घर में ढेर सारा प्यार
हर घर में दीयों का उजाला हो, हर घर में हो बहार!
दीपोत्सव की हर्सिक शुभकामनायें…


दिवाली के त्यौहार पर पाठकों की फुलझड़ी
खुश रहें आप हमेशा यही हे हमारी दुआ इस दिवाली !
दीपावली की आपको और आपके परिवार को ढेर सारी शुभकामनायें…


दिए की रौशनी से सभी अँधेरे दूर हो जाए
यही दुआ है हमारी की आप जाहो वो मंज़ूर हो जाए !
हैप्पी दीपावली…


दीपों का ये पवन त्यौहार, खुशियाँ ले घर में हज़ार..
लक्ष्मी की विराजे आपके द्वार, हमारी शुभकामनाए करो स्वीकार!
दीपावली की आपको और आपके परिवार को ढेर सारी शुभकामनायें…


दीप जगमगाते रहें, सबके घर झिलमिलाते रहें
साथ हो सब अपने, सब युहीं मुस्कुराते रहें !


दीप से दीप जले तो हो दीपावली,
उदास चहरे खिले तो हो दीपावली,
बहार की सफाई तो हो चुकी बहूत…
दिल से दिल मिले तो हो दीपावली!


     Diwali Wishes Quotes

Diwali Wishes in Hindi

कुबेर जी आपका भंडार हमेशा भरा रखे, पांच दिवसीय त्यौहार की ढेर सारी शुभकामनायें !


ये दिवाली आपके घर में खुशियों की बोचर लाए, धन और शोहरत की बौछार करे…दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए!


दीपों का प्रकाश हर पल आपके जीवन में नई रौशनी लाए बस इसी शुभकामना के साथ हैप्पी दीपावली!


दीपावली में दीपों का दीदार हो और खुशियों की बौछार हो…दीपावली की आपको और आपके परिवार को ढेर सारी शुभकामनायें…


आज दीपावली मानाने से पहले देश के उन वीर सपूतों को भी यद् आकर लें जो सीमा पर निगरानी रखते हे! ये दीवाली देश के वीरों के नाम…हैप्पी दीपावली

Diwali Wishes in Hindi | Diwali Wishes Quotes

हिंदी में कहानियां , शायरियां पढने के लिए यहाँ क्लिक करें…

साथियों अगर आपके पास कोई भी रोचक जानकारी या कहानी, कविता हो तो हमें हमारे ईमेल एड्रेस hindishortstories2017@gmail.com पर अवश्य लिखें!

दोस्तों! आपको “Diwali Wishes in Hindi | दिवाली की शुभकामनाएँ” हमारा यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट में ज़रूर लिखे| और हमारा फेसबुक पेज जरुर LIKE करें!

अब आप हमारी कहानियों का मज़ा सीधे अपने मोबाइल में हमारी एंड्राइड ऐप के माध्यम से भी ले सकते हैं| हमारी ऐप डाउनलोड करते के लिए निचे दी गए आइकॉन पर क्लिक करें!

यह भी पढ़ें:-

Soldier Story | एक हमला वहां भी हुआ होगा

Heart Touching Story in Hindi | भतेरी

Heart Touching Story | तानाशाही